अच्छे कर्म करते रहें बस वही आपका परिचय देंगे

अच्छे कर्म करते रहें बस वही आपका परिचय देंगे

जितना समय हम किसी कार्य की चिन्ता में लगाते हैं। यदि उतना ही समय हम उस कार्य में लगाएँ तो चिन्ता जैसी कोई चीज ही नहीं रह जाएगी।आत्म – सम्मान की भावना ही नम्रता की औषधि है।

जब तक आप अपनी समस्याओं एंव कठिनाइयों का कारण दूसरों को मानते है, तब तक आप अपनी समस्याओं एंव कठिनाइयों को मिटा नहीं सकते। दीपक बोलता नहीं उसका प्रकाश परिचय देता है। ठीक उसी तरह अगर आप अपने बारे में कुछ न बोलें, अच्छे कर्म करते रहें बस वही आपका परिचय देंगे।

सफलता का कोई भी पैमाना नहीं होता – एक गरीब बाप का बेटा बड़ा होकर ऑफिसर बने पिता के लिए यही सफलता है। जिस इंसान के पास कुछ खाने को ना हो और वो सुख पूर्वक 2 वक्त की रोटियां जुटा लें तो उससे लिए ये भी सफलता है। सोच ही हमें अच्छा या फिर बुरा बनाती है, इसलिए अगर हम अपनी सोच बदलने की कोशिश करें तो निश्चय ही हमें अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने और सफलता हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता है।

कर्तव्य कोई ऐसी वस्तु नहीं, जिसको नाप – जोखकर देखा जाए। सफलता की कहानियां कभी मत पढ़ो क्योंकि उससे आपको सिर्फ एक सन्देश मिलेगा। असफलता की कहानियां पढ़ो, क्योंकि उससे आपको सफल होने के लिए कुछ विचार मिलेंगे।

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम जिंदगी के बारे में इसी तरह के सकारात्मक विचार लाते रहेंगे। दोस्तों इसी तरह की पोस्ट आगे भी पाने के लिए हमें फॉलो जरूर करें धन्यवाद।

Comments are closed.