आइसोलेशन वार्ड में भर्ती महिला के साथ रेप, मृतक महिला लुधियाना से कुछ दिन पहले आई थी गया 

Health Worker Arrested For Rape With Woman In Bihar - Sakshi Samacharफोटो : सौ, सोशल मीडिया
  • बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या
  • गया में मृतक महिला की सास ने लगाया गंभीर आरोप
  • मृतक महिला लुधियाना से कुछ दिन पहले आई थी गया 

गया : एक तरफ जहां पूरा देश  कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं, वहीं गया जिले से एक शर्मनाक मामला सामने आया है। यहां के मगध मेडिकल कॉलेज में भर्ती महिला ने एक स्वास्थकर्मी पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। फिलहाल दुष्कर्म के आरोपी स्वास्थकर्मी को गिरफ्तार कर लिया गया है।  बताया जाता है कि मगध मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल में इलाज के बाद बांकेबाजार के रौशनगंज की गर्भवती महिला घर लौट आई। तीन दिन के बाद बाद ही उस महिला की मौत हो गई। इसके बाद पीड़ित परिवार ने अस्पताल के ही एक कर्मचारी पर रेप का आरोप लगाया।

मीडिया रिपोर्ट्‌स के अनुसार, मृत महिला की सास फुलवा देवी ने आरोपित स्वास्थ्यकर्मी के खिलाफ रौशनगंज थाने में अपना बयान दर्ज कराया। जिसमें स्वास्थ्यकर्मी पर रेप का आरोप लगाया है। इसी आधार पर ही मेडिकल थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई।वहीं, मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अधीक्षक डॉ विजय कृष्ण प्रसाद ने मामले की जांच के लिए टीम गठित की।

क्या था पूरा मामला

पुलिस के अनुसार, बांकेबाजार प्रखंड अंतर्गत रौशनगंज की पूनम देवी 24 साल, नामक महिला लुधियाना से गत 25 मार्च को अपने घर रौशनगंज लौटी थी, वह गर्भवती थी। महिला को पेट में दर्द होने के बाद एएनएमसीएच के इमरजेंसी वार्ड में 27 मार्च को भर्ती कराया गया था।  फिर 2 दिनों के बाद महिला को कोरोना वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। जहां महिला का कोरोना टेस्ट भी कराया गया। रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। इस बीच महिला 2 अप्रैल को अपने घर रौशनगंज लौट आई थी और अचानक सोमवार सुबह महिला की मौत हो गई।

मृतिका की सास का आरपो 

मृतिका की सास फुलवा देवी के अनुसार, कोरोना वार्ड में रहने के दौरान बहू के माथे पर टिका लगाए और एक स्वास्थ्यकर्मी के द्वारा लगातार दो दिनों तक दुष्कर्म किया गया। दुष्कर्म की वजह से उसे ब्लीडिंग होने लगी और उसका पेट में पल रहा बच्चा खराब हो गया। स्वास्थ्यकर्मी के द्वारा किए गए गंदी हरकत की आपबीती मेरी बहू बताई थी ।उन्होंने कहा कि पेट में पल रहे बच्चे और बहू की मौत का जिम्मेदार अस्पताल का स्वास्थ्यकर्मी है, उसी की वजह से मेरी बहू की जिंदगी चली गई। यदि अस्पताल के कोरोना वार्ड में नहीं भेजा जाता तो  मेरी बहू के साथ ऐसी कोई हरकत नहीं होती और जान बच जाती। फिलहाल पुलिस इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार कर लिया है। और इसकी जांच की जा रही है।

Comments are closed.