इच्छाओं को थोड़ा घटाकर देखिए, खुशियों का संसार नज़र आएगा

जो सम्मान से कभी गर्वित नहीं होते,

अपमान से कभी क्रोधित नहीं होते और,

क्रोधित होकर भी जो कभी कठोर नहीं बोलते….

वास्तव में वे ही श्रेष्ठ होते हैं!!!!!!!

हो सकता है हर दिन अच्छा ना हो लेकिन,

हर दिन में कुछ अच्छा जरूर होता है!

मस्तक को थोड़ा झुकाकर देखिए… अभिमान मर जाएगा

आँखों को थोड़ा भिगा कर देखिए… पत्थर दिल पिघल जाएगा

दांतों को आराम देकर देखिए… स्वास्थ्य सुधर जाएगा

जिव्हा पर विराम लगाकर देखिए…

क्लेश का कारवाँ गुज़र जाएगा।

इच्छाओं को थोड़ा घटाकर देखिए…

खुशियों का संसार नज़र आएगा..

खामोश रहने का अपना ही मजा है!

नींव के पत्थर कभी बोला नहीं करते!

जो अपने कदमों की काबिलियत पर विश्वास रखते हैं,

वही अक्सर मंजिल तक पहुंचते हैं…

हर सुबह आपको असल दें, हर फूल आपको मुस्कान दें,

हाँ दुआ करते हैं कि खुदा आपको नए सवेरे के साथ,

कामयाबी का नया आस्मां दे….

जो बांधने से बंधे… और तोड़ने से टूट जाये…

उसका नाम है “बंधन”

जो अपने आप बन जाये… और जीवन भर ना टूटे…

उसका नाम है “संबंध”

लोग जब पूछते है आप क्या काम करते है ?

तो असल में वो हिसाब लगाते है ,

आप को कितनी इज्जत देनी है ….

!!सुप्रभात!! जय श्री कृष्णा!!

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम जिंदगी के बारे में इसी तरह के सकारात्मक विचार लाते रहेंगे। दोस्तों इसी तरह की पोस्ट आगे भी पाने के लिए हमें फॉलो जरूर करें धन्यवाद।

Comments are closed.