इतना, आसान हूँ कि हर किसी को समझ आ जाता हूँ , शायद तुमने ही .. पन्ने छोड़ छोड़ कर पढ़ा है मुझे

टूटने लगे हौसले तो ये याद रखना,

बिना मेहनत के तख्तो-ताज नहीं मिलते,

ढूंढ़ लेते हैं अंधेरों में मंजिल अपनी,

क्योंकि जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते।

जिंदगी बहुत कुछ सिखाती है,

थोड़ा रुलाती है थोड़ा हसाती है,

खुद से ज्यादा किसी पे भरोसा मत करना,

क्योंकि अँधेरे में तो परछाईं भी साथ छोड़ जाती है!

काली अँधेरी रात के बाद सुबह है आई,

उठकर देखो सुबह का नज़ारा,

सूर्य की रौशनी से सारी दुनिया है जगमगाई,

क्या हुआ अगर कल गम में बीता,

आज की सुबह नयी उमीदें है ले कर आई।

प्यारी सी मीठी सी निंदिया के बाद,

रात के हसीन सपनों के बाद,

सुबह के कुछ नए सपनों के साथ,

आप हँसते रहें अपनों के साथ।

अपनी ज़िन्दगी में हर किसी को अहमियत दीजिये, क्यूंकि

जो अच्छे होंगे वो साथ देंगे और जो बुरे होंगे वो सबक देंगे।

ना किसी से ईर्ष्या, ना किसी से कोई होड़,

मेरी अपनी मंजिलें मेरी अपनी दौड़।

मुस्कुराओ क्या ग़म हैं, ज़िन्दगी में टेंशन किसको काम हैं,

अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम हैं,

ज़िन्दगी का नाम ही कभी ख़ुशी कभी ग़म है।

किसी की मजबूरी का मजाक ना बनाओ यारों,

जिंदगी कभी मौका देती हैं तो कभी धोका भी देती है।

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम जिंदगी के बारे में इसी तरह के सकारात्मक विचार लाते रहेंगे। दोस्तों इसी तरह की पोस्ट आगे भी पाने के लिए हमें फॉलो जरूर करें धन्यवाद।

Comments are closed.