वृक्ष का ध्यान बहुत कम लोग रखते हैं और छाया सबको चाहिए !

अपने सपनों का जीवन जियो – दूसरों की अपेक्षाओं और विचारों के बजाय अपनी दृष्टि और उद्देश्य के अनुसार अपने सपनों का जीवन जीने के लिए पर्याप्त बहादुर बनो। षडयंत्र करके कुछ समय के लिए तो सफलता प्राप्त की जा सकती है पर श्रेष्ठता कभी हांसिल नहीं की जा सकती।

तमन्नाएं भी उम्र भर कम नहीं होंगी, समस्याएं भी कभी हल नहीं होंगी। फिर भी हम जी रहे हैं वर्षों से इस तमन्ना में कि मुश्किलें जो आज हैं, शायद कल नहीं होंगी ।चरित्र एक वृक्ष है और प्रतिष्ठा यश सम्मान उसकी छाया लेकिन विडंबना यह है कि वृक्ष का ध्यान बहुत कम लोग रखते हैं और छाया सबको चाहिए !

जिंदगी में कभी भी इतनी गलतियां न करना की पेन्सिल से पहले रबर घिस जाये और रबर को इतना भी मत घिसना की जिंदगी का पेज ही मिट जाये। अपने

दिल में विश्वास रखें कि आप जुनून, उद्देश्य, जादू और चमत्कार से भरा जीवन जीने के लिए हैं।मनुष्य का “आधा सौंदर्य” उसकी “जुबान” में होता है। कबीर दास जी ने कहा है – ऐसी बानी बोलिए, मन का आपा खोय! औरन को शीतल करै, आपहु शीतल होय!मान और अहंकार का त्याग करके ऐसी वाणी में बात करें कि औरों के साथ-साथ स्वयं को भी खुशी मिले।

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम जिंदगी के बारे में इसी तरह के सकारात्मक विचार लाते रहेंगे। दोस्तों इसी तरह की पोस्ट आगे भी पाने के लिए हमें फॉलो जरूर करें धन्यवाद।

Comments are closed.