सर्वे में हुआ चौंकाने वाला खुलासा, भारत में बड़े पैमाने पर लोग बेरोजगार


अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के सर्वे में देश में रोजगार के मोर्चे पर चौंकाने वाले आंकड़े आए हैं। सर्वे के मुताबिक देश में दो तिहाई से ज्यादा लोगों का रोजगार खत्म हो गया है और वो बेरोजगार हो गए हैं। इनमें से सबसे ज्यादा खराब हालात शहरी क्षेत्र में देखने को मिले हैं। शहरी इलाकों में 10 में से 8 लोगों का रोजगार खत्म हो गया है यानी 80 फीसदी बेरोजगार हैं। वहीं ग्रामीण इलाकों में बेरोजगारी का आंकड़ा थोड़ा कम है। यहां करीब 57 फीसदी लोग प्रभावित हुए हैं यानि 10 में से 6 लोगों का रोजगार छिन गया है। कोरोना  लॉकडाउन की वजह से न सिर्फ बड़ी कंपनियों में कामकाज ठप हुआ बल्कि उसके सहारे चल रहे स्वरोजगार के तमाम धंधे भी बंद होते जा रहे हैं। 


पीएफ से 80 लाख लोगों ने 30 हजार करोड़ निकाले 

कोरोना महामारी से जॉब छूटने और बेरोजगारी बढ़ने के कारण बीते चार महीने में ईपीएफओ सब्सक्राइबर्स ने अपने खाते से 30,000 करोड़ रुपए की निकासी की है। 30 लाख ईपीएफओ खाताधारकों ने 8000 करोड़ रुपये निकाले हैं। वहीं शेष 22000 करोड़ रुपए की निकासी 50 लाख खाताधारकों की ओर से की गई है। 
हर समय पैसे की कमी बनाए रखती हैं पर्स ...

म्यूचुअल फंड से बढ़ी पैसे की निकासी 

कोरोना संकट के कारण आम लोग पैसे की कमी दूर करने के लिए म्यूचुअल फंड से अपने जमा रकम को तेजी से निकासी कर रहे हैं। एम्फी के डाटा के अनुसार, इक्विटी म्यूचुअल फंड में अप्रैल, मई, जून और जुलाई में निवेश हर महीने घटा है और जमा निवेश में तेजी से गिरावट आई है। रिपोर्ट के अनुसार, जुलाई महीने में म्युचुअल फंडों से 10 अरब रुपये निकाले गए हैं। यह संकट आने वाले दिनों में और बढ़ सकती है। 

Comments are closed.