सूरज और चंद्रमा दोनों ही चमकते है लेकिन अपने अपने समय पर।

ज्ञान अतीत की व्याख्या करने के लिए नहीं,

बल्कि भविष्य का निर्माण करने के लिए होता है।

वक्त की एक आदत बहुत अच्छी है, जैसा भी हो गुजर जाता है।

हजारों दीयों को एक ही दिए से,

बिना उसका प्रकाश कम किए जलाया जा सकता है

खुशी बांटने से खुशी कभी कम नहीं होती।

उम्मीदों से बंधा एक जिद्दी परिंदा है इंसान जो,

घायल भी उम्मीदों से है और जिंदा भी उम्मीदों पर है।

समय ना लगाओ तय करने में आपको क्या करना है,

वरना समय तय कर लेगा आपका क्या करना है।

जब दुनिया यह कहती है कि हार मान लो, तब

आशा धीरे से कान में कहती है कि एक बार फिर से प्रयास करो।

जब तक आप जो कर रहे है उसे पसंद नहीं करते,

तब तक आप सफलता नहीं पा सकते।

कुछ कर गुजरने के लिए मौसम नहीं चाहिए,

साधन सभी जुट जाएंगे केवल संकल्प का धन चाहिए।

उस ज्ञान का कोई लाभ नहीं जिसे आप काम में नहीं लेते।

आप अपनी जिंदगी की तुलना दूसरों से ना करें क्योंकि,

सूरज और चंद्रमा दोनों ही चमकते है लेकिन अपने अपने समय पर।

जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते,

कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिए बेमानी है।

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम जिंदगी के बारे में इसी तरह के सकारात्मक विचार लाते रहेंगे। दोस्तों इसी तरह की पोस्ट आगे भी पाने के लिए हमें फॉलो जरूर करें धन्यवाद।

Comments are closed.