IND vs ENG: पहला टेस्ट ड्रॉ, फिर भी टीम इंडिया की हुई ‘जीत’, जानिए कैसे?

 नई दिल्ली. भारत और इंग्लैंड के बीच पहला टेस्ट मैच (India vs England, 1st Test) ड्रॉ रहा. खेल के पांचवें दिन टीम इंडिया को जीत के लिए महज 157 रन और चाहिए थे और उसके 9 विकेट बचे हुए थे लेकिन बारिश के चलते पूरे दिन एक भी गेंद नहीं फेंकी जा सकी और मैच ड्रॉ घोषित करना पड़ा. भले ही भारतीय टीम इस मैच (Nottingham Test) में जीत हासिल नहीं कर पाई लेकिन 5 मोर्चों पर उसे जीत हासिल हुई है. पहले ही टेस्ट मैच में उसने कमाल का प्रदर्शन कर मेजबान टीम के ऊपर मनोवैज्ञानिक बढ़त बना ली है. आइए आपको बताते हैं कि पहला टेस्ट ड्रॉ होने के बाद भारत को कैसे ‘जीत’ मिली?

पूरे दो साल के बाद केएल राहुल ने टेस्ट टीम में वापसी की और अच्छी खबर ये है कि उनका प्रदर्शन भी दमदार रहा. केएल राहुल ने प्रैक्टिस मैच में शतक लगाया था और अपनी अच्छी फॉर्म को उन्होंने जारी रखा. पहली पारी में राहुल ने शानदार 84 रन बनाए. दूसरी पारी में वो 26 पर आउट हुए लेकिन वो साफतौर पर फॉर्म में दिखाई दे रहे हैं. उम्मीद है कि अगले टेस्ट मैच में भी उनका बल्ला रन उगलेगा.
नॉटिंघम टेस्ट में भारत के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी है बजसप्रीत बुमराह का रंग में लौटना. जसप्रीत बुमराह ने पहली पारी में 4 और दूसरी पारी में 5 बल्लेबाजों को आउट किया. मैच में 9 विकेट लेने वाले बुमराह ने जो रूट को भी काफी तंग किया. वहीं इंग्लैंड के दूसरे बल्लेबाज तो उनके आगे काफी परेशान दिखे. बता दें नॉटिंघम टेस्ट से पहले पिछली तीन टेस्ट पारियों में बुमराह ने एक भी विकेट नहीं लिया था लेकिन अब वो फॉर्म में लौट चुके हैं. इंग्लैंड अगर आने वाले मैचों में गेंदबाजों के मुफीद पिच बनाता है तो बुमराह का कहर उनपर भी बरपेगा.
टीम इंडिया को पहले टेस्ट में इंग्लैंड के हालात के मुताबिक बेहतरीन प्लेइंग इलेवन संयोजन मिल गया है. टीम इंडिया प्लेइंग इलेवन में चार तेज गेंदबाजों और एक स्पिनर के साथ उतरी. इंग्लैंड की पिचों पर स्पिनरों की उतनी अहमियत नहीं दिखाई देती इसलिए भारतीय टीम रवींद्र जडेजा के साथ पहले टेस्ट में उतरी. अश्विन जैसे खिलाड़ी को बेंच पर बैठना पड़ा और जडेजा ने कोहली के फैसले को सही भी साबित किया. जडेजा ने पहली पारी में 56 रन बनाकर इंग्लैंड को बैकफुट पर धकेल दिया.
इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज शुरू होने से पहले टीम इंडिया ने अपने पुछल्ले बल्लेबाजों से भी नेट्स पर प्रैक्टिस करवाई जिसका फल उन्हें नॉटिंघम में मिला. नॉटिंघम में जसप्रीत बुमराह ने 28 रनों की बेहतरीन पारी खेली. सैम करेन के ओवर में उन्होंने जिस तरह से छक्का जड़ा वो भारत के सोशल मीडिया में छा गया. बुमराह के अलावा शमी ने 13 और सिराज ने नाबाद 7 रन बनाए. अंतिम 3 बल्लेबाजों ने 48 रनों का योगदान दिया और टीम इंडिया को इंग्लैंड पर 95 रनों की बढ़त मिली. मैच के बाद कप्तान विराट कोहली ने भी अपने पुछल्ले बल्लेबाजों के प्रदर्शन को सलाम किया.
पहला टेस्ट मैच ड्रॉ जरूर हो गया है लेकिन भारत ने इंग्लैंड की कमजोरी पकड़ ली है. इंग्लैंड की बैटिंग यूनिट रंग में नहीं है. जो रूट को छोड़कर सभी बल्लेबाज भारतीय तेज गेंदबाजों के आगे परेशान दिखे. डोम सिब्ली, डैन लॉरेंस, जैक क्राउली, रॉरी बर्न्स को बुमराह-सिराज और शमी ने काफी तंग किया. आने वाले मैचों में इंग्लैंड के लिए उसका गैर-अनुभवी बल्लेबाजी क्रम बड़ी चिंता का विषय बन सकता है और भारतीय टीम इसका फायदा जरूर उठाएगी.