क्रेडिट कार्ड खोने पर हो सकती है बड़ी परेशानी, बचने के लिए तुरंत करें ये काम

 आपका क्रेडिट कार्ड कहीं गिर जाए, पॉकेटमार चोरी करे तो वॉलेट के साथ क्रेडिट कार्ड की भी चोरी हो जाए तो क्या करेंगे? क्या आप इसे महज एक कार्ड मानकर मामला रफा-दफा कर देंगे या पुलिस-कोतवाली में शिकायत करेंगे? यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि क्रेडिट कार्ड खोने पर क्या करते हैं और कितनी जल्द कार्रवाई करते हैं. ये भी हो सकता है कि इसे मामूली घटना मान कर दसरे कार्ड के लिए अप्लाई कर दें. लेकिन एक्सपर्ट बताते हैं कि कार्ड चोरी होने या गुम होने को हल्के में न लें और सावधान हो जाएं.

सबसे पहले तो आपको उस बैंक से संपर्क करना चाहिए जहां से क्रेडिट कार्ड जारी किया गया है. उसे फोन करें या ईमेल करें और बताएं कि आपके साथ ऐसी घटना हो गई है. बैंक के कर्मचारी को बोलकर फौरन कार्ड ब्लॉक कराना चाहिए. जिस दिन या जिस समय आप बैंक को सूचित करते हैं, उस दिन से आप क्रेडिट कार्ड से होने वाले ट्रांजेक्शन के लिए जिम्मेदार नहीं होते.

आजकल सभी कार्ड कांटेक्टलेस आते हैं. यानी कि ट्रांजेक्शन के लिए आपको पिन डालने की जरूरत नहीं. बस पीओएस मशीन पर उसे पंच करना है और आपका पेमेंट हो जाएगा. अगर बैंक को बोलकर कार्ड बंद नहीं कराएंगे तो उसका दुरुपयोग हो सकता है. हो सकता है कि आपको बैंक का कांटेक्ट नंबर नहीं मिले तो इसके लिए क्रेडिट कार्ड के स्टेटमेंट में देख सकते हैं. बैंक में शिकायत करने से पहले आपको इन बातों का खयाल रखना होगा.

  • आपसे अकाउंट नंबर पूछा जाएगा, इसलिए याद रखें और बैंककर्मी को बता दें
  • जिस दिन क्रेडिट कार्ड की चोरी हुई है या जिस दिन वह गुम हुआ है, उस निश्चित तारीक की जानकारी देनी होगी
  • आपसे यह भी पूछा जाएगा कि अंतिम तारीख क्या थी जिस दिन ट्रांजेक्शन किया और कितने अमाउंट का ट्रांजेक्शन किया गया

तुरंत करें ये काम

कार्ड चोरी होने या गुम होने पर परेशान न हों बल्कि उसे ब्लॉक करा दें. यह काम खुद भी मोबाइल ऐप से कर सकते हैं. अगर आपने बैंक का मोबाइल ऐप रखा है तो कार्ड को ब्लॉक करने या अनब्लॉक करने की सुविधा मिलती है. अगर मोबाइल से आप कार्ड को ब्लॉक नहीं कर पा रहे हैं तो बैंक से कराएं और जब तक यह काम पूरा नहीं होता, उसके स्टेटमेंट पर गहरी निगाह रखें.

आगे क्या करना चाहिए

बैंक में शिकायत करने के बाद आपका कार्ड ब्लॉक या फ्रीज कर दिया जाता है. बैंक आपको पुराने के बदले एक नया कार्ड जारी करेगा. अच्छी बात यह है कि शिकायत करने के बाद आपका खाता कैंसिल नहीं होगा और उसी अकाउंट के आधार पर नया कार्ड जारी किया जाएगा. अपने क्रेडिट कार्ड पर चलने वाले लोन या ईएमआई को समय पर चुका देते हैं तो क्रेडिट स्कोर पर कोई असर नहीं पड़ेगा. लेकिन अगर कार्ड खोने का बहाना बनाकर बिल या लोन चुकाने में देर करते हैं तो स्कोर प्रभावित हो सकता है.

बैंक की जानकारी अपडेट करें

अगर आपने घर या शहर बदला है तो क्रेडिट कार्ड खोने पर इसकी तुरंत सूचना दें और नया एड्रेस अपडेट कराएं. आजकल कोरियर से कार्ड की डिलिवरी होती है. आपने घर बदला है और बैंक में एड्रेस अपडेट नहीं है तो परेशानी हो सकती है. एक बार कार्ड अगर लौट जाए तो दुबारा लेने में कागजी कार्यवाही होती है. हो सकता है आपको केवाईसी भी कराना पड़े. नए पते पर आपको क्रेडिट कार्ड का स्टेटमेंट मंगाना होगा. अगर एड्रेस अपडेट नहीं करेंगे तो जरूरी जानकारी गलत हाथों में जा सकती है.

फोन पर जानकारी न दें

कार्ड खोने का यह मतलब नहीं कि कहीं से भी फोन आए तो अपने बैंक खाते से जुड़ी जानकारी दे दें. साइबर अपराधियों को मौका लग सकता है और आपको बरगला कर पिन या सीवीवी की जानकारी ली जा सकती है. इससे सावधान रहें. क्रेडिट कार्ड को ट्रैक पर रखें और अपने मोबाइल फोन में फ्रॉड अलर्ट लगाएं. ऐसे ईमेल का जवाब न दें जिसमें आपकी पर्सनल बैंकिंग की जानकारी मांगी गई है.

कार्ड का इलाका तय करें

क्या आपको पता है कि क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल का इलाका फिक्स होता है. यानी किसी खास इलाके या राज्य में ही कार्ड का इस्तेमाल हो सकेगा. आप चाहें तो इसे सेट कर सकते हैं. आप चाहें तो कार्ड को बंद या शुरू भी कर सकते हैं. यह पूरी तरह से आपके हाथ में है. आप इन टिप्स का इस्तेमाल कर कार्ड के इस्तेमाल को सुरक्षित बना सकते हैं और कार्ड खोने पर उसके दुरुपयोग से बच सकते हैं.