टीम इंडिया बदलने वाली है! T20 वर्ल्ड कप के बाद रवि शास्त्री और दूसरे सपोर्ट स्टाफ की राहें हो सकती हैं जुदा

 अगर हम आपसे कहें कि टीम इंडिया बदलने वाली है, तो आप यकीन शायद ही करें. लेकिन, ये बदलाव बहुत जल्द दिखने वाला है. खबर है कि T20 वर्ल्ड कप के बाद भारतीय मेंस क्रिकेट टीम के ड्रेसिंग रूम में बहुत कुछ बदला बदला होगा. उसके सपोर्ट स्टाफ के रास्ते जुदा हो सकते हैं. यहां तक कि रवि शास्त्री के इरादे भी अब कुछ और हैं. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक हेड कोच रवि शास्त्री, बैटिंग कोच विक्रम राठौर, बॉलिंग कोच भरत अरूण और फील्डिंग कोच आर. श्रीधर इस साल अक्टूबर-नवंबर में UAE में होने वाले T20 वर्ल्ड कप के बाद टीम इंडिया से अलग होना चाहते हैं. इन सभी का करार भी T20 वर्ल्ड कप तक का ही है.

रिपोर्ट के मुताबिक, शास्त्री ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड के कुछ सदस्यों को अपनी इस मंशा से दो-चार भी कराया है. उन्होंने कहा कि करार खत्म होने के बाद वो टीम इंडिया से अलग होने की सोच रहे हैं. वहीं टीम के दूसरे सपोर्ट स्टाफ IPL टीमों से लगातार संपर्क में हैं. सूत्रों के मुताबिक, भारतीय क्रिकेट बोर्ड भी अब टीम इंडिया के लिए नए सपोर्ट स्टाफ का गठन करना चाहता है.

कामयाब खूब हुए पर ICC खिताब से दूर रहे

रवि शास्त्री पहली बार साल 2014 में बतौर डायरेक्टर टीम इंडिया से जुड़े थे. उनका ये करार साल 2016 तक का था. इसके बाद अनिल कुंबले एक साल के लिए कोच बनाए गए. 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी में मिली हार के बाद रवि शास्त्री टीम इंडिया के फुल टाइम कोच बने. शास्त्री के कोच रहते भारत ने घर से बाहर ऑस्ट्रेलिया में क्रिकेट सीरीज जीती और फिर उसके बाद पिछले महीने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल भी खेला. भरत अरूण के बॉलिंग कोच रहते टीम इंडिया का गेंदबाजी अटैक घातक हुआ है. वहीं आर. श्रीधर ने भारत की फील्डिंग में एक नया बदलाव लाने का काम किया है. हालांकि, इन सबके रहते भारत ने ICC का एक भी खिताब नहीं जीता है. 2019 वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल में टीम इंडिया को सेमीफाइनल में हार मिली थी. वहीं इसके बाद भारतीय टीम टेस्ट क्रिकेट का वर्ल्ड कप यानी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशनशिप का फाइनल भी हार गई. हालांकि, ICC टूर्नामेंट्स को छोड़ दें तो बीते 4 सालों में शास्त्री एंड कंपनी के रहते भारत ने वेस्टइंडीज और श्रीलंका में क्लीन स्वीप किया. वहीं साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड में भी उसका प्रदर्शन लाजवाब रहा. विदेशी मैदानों के अलावा घर में भी टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका जैसी टीमों को शिकस्त दी. शास्त्री एंड कंपनी की कोचिंग में भारत का बेंच स्ट्रेंथ भी न सिर्फ मजबूत हुआ है बल्कि ऑस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीत के साथ उसने खुद को साबित भी किया है. एक टीम के लिए उसके कोच और कप्तान के बीच सही तालमेल का होना बहुत जरूरी होता है. विराट कोहली और रवि शास्त्री के गठबंधन में ये चीज खूब दिखी है.

बदलाव चाहता है BCCI- रिपोर्ट

लेकिन इतने के बावजूद भारतीय क्रिकेट बोर्ड अब बदलाव चाहता है. उसका मानना है कि अब बदलाव से ही टीम अगले लेवल पर पहुंच सकती है और वर्ल्ड क्रिकेट में अजेय टीम के तौर पर उभर सकती है. प्रोटोकॉल के मुताबिक , T20 वर्ल्ड कप के बाद BCCI नए हेड कोच के लिए आवेदन मंगाएगी. बोर्ड के कुछ अधिकारियों ने राहुल द्रविड़ के नया कोच बनाए जाने के संकेत दिए हैं. द्रविड़ फिलहाल NCA के डायरेक्टर हैं और इस रोल के लिए उनका करार सितंबर में खत्म हो रहा है.