ITR नहीं देने वालों को भी मिलता है बिजनेस लोन, जानिए कैसे करना होता है अप्लाई

 बिजनेस चलाना आसान काम नहीं है, खासकर जब फंड पर्याप्त न हो. अपनी गाढ़ी कमाई से कोई बिजनेस शुरू करना भी आसान नहीं होता. इसके लिए लोन लेना जरूरी हो जाता है. लेकिन कोई व्यक्ति नया बिजनेस शुरू करने जा रहा है तो उसे लोन मिलने में दिक्कत होती है. आखिर बैंकों को जानना पड़ता है कि लोन के रकम की अदायगी कब और कैसे की जाएगी. बैंक या वित्तीय संस्थाएं कोई सबूत चाहते हैं जिससे पता चले कि लेनदार लोन का पैसा नहीं डुबाएगा. ऐसी स्थिति में लोन लेना मुश्किल हो जाता है. बैंको जो सबूत चाहिए उसमें सबसे अहम रोल इनकम टैक्स रिटर्न ITR निभाता है. लेकिन क्या सबलोग रिटर्न फाइल करते हैं? ऐसा नहीं है. ऐसे में हमें जानना होगा कि क्या बिना आईटीआर फाइल किए भी लोन मिल सकता है?

नियम बताते हैं कि अगर छोटा बिजनेस शुरू करना हो तो आईटीआर का दस्तावेज देना बाध्यकारी नहीं हो सकता. खासकर बिजनेस शुरू करने के कुछ महीनों के अंदर. इसका मतलब है कि आईटीआर नहीं देने से कोई व्यक्ति बिजनेस के लिए अयोग्य नहीं माना जा सकता. बैंक, गैर-वित्तीय संस्थाएं या डिजिटल प्लेटफॉर्म आईटीआर के नियम में छूट देते हैं और बिना रिटर्न के भी लोन देने की सुविधा देते हैं. हालांकि इसके लिए सबसे जरूरी है कि आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा हो. लोन लेकर कहीं फंसाया न हो, किसी बैंक का लोन डूबा न दिए हों. अगर क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो बिना आईटीआर के भी आसानी से बिजनेस लोन ले सकते हैं.

कौन अप्लाई कर सकता है

  • बिना आईटीआर के प्रोपराइटर, ट्रेडर, मर्चेंट, रिटेलर और मैन्युफैक्चरर बिजनेस लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं. यह लोन व्यक्तिगत स्तर पर दिया जाएगा
  • अगर बड़ा बिजनेस शुरू करना है तो इस नियम के तहत पार्टनरशिप कंसर्न, एलएलपी, सोल प्रोपराइटरशिप, कोऑपरेटिव सोसायटी, ट्रस्ट और एनजीओ आदि को लोन मिल सकता है
  • स्टार्टअप, स्व रोजगार के पेशेवर और पहली बार बिजनेस करने वाले लोग भी बिना आईटीआर लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं
  • उम्र सीमा
  • 18 साल से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति लोन के लिए अप्लाई कर सकता है
  • अधिकतम उम्र की सीमा 65 साल है. लो की मैच्योरिटी के वक्त लेनदार की उम्र हर हाल में 65 साल से कम होनी चाहिए

10 हजार रुपये से लेकर 10 करोड़ रुपये तक के लोन लिए जा सकते हैं. लोन की राशि बिजनेस के प्रकार पर निर्भर करती है. साथ ही, गारंटर, क्रेडिट स्कोर, आवेदक की प्रोफाइल और अन्य मापदंडों के आधार पर लोन की राशि तय की जाती है. लोन लेने के लिए ज्यादा लोग एकसाथ भी अप्लाई कर सकते हैं. लोन लेने के लिए बिजनेस का टर्नओवर क्या होगा, यह तय करने का अधिकार बैंकों के पास होता है. वे ही टर्नओवर देख कर लोन की राशि निर्धारित करते हैं. टर्म लोन लेना है तो उसके लिए किसी कोलैटरल या सिक्योरिटी की जरूरत नहीं होती. हालांकि लेनदार को क्रेडिट लेटर लेने के लिए गारंटी जमा करना पड़ सकता है.

बिना ITR लोन के लिए ये चाहिए दस्तावेज

  • भरा हुआ एप्लिकेशन फॉर्म
  • बिजनेस प्लान की डिटेल
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • आवेदक का पहचान पत्र- वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार, पासपोर्ट आदि
  • आवेदक का एड्रेस प्रूफ- पासपोर्ट, बैंक स्टेटमेंट, बिजली बिल, रेंटल एग्रीमेंट आदि
  • चलते बिजने का सबूत और बिजनेस वाले स्थान का एड्रेस प्रूफ
  • मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन, पार्टनरशिप डीड, इनकॉरपोरेशन सर्टिफिकेट
  • बिजनेस का रेंटल एग्रीमेंट
  • सेंट्रल बैंक के अकाउंट का कुछ महीने का स्टेटमेंट
  • प्राइवेट बैंकों से लोन लेना आसान

बिना आईटीआर के सरकारी बैंकों से बिजनेस लोन लेना मुश्किल काम है. इसके लिए ज्यादा अच्छा होता है कि प्राइवेट बैंक या गैर-वित्तीय संस्थानों से संपर्क किया जाए. ध्यान रखें कि प्राइवेट बैंक या गैर वित्तीय संस्थाओं की ब्याज दर सरकारी बैंकों की तुलना में ज्यादा हो सकती है. बिना आईटीआर लोन लेने के लिए सबसे अच्छा तरीका होता है किसी प्रॉपर्टी पर लोन लिया जाए. यह लोन आसानी से मिल जाता है. चूंकि यह सिक्योर्ड लोन की कैटगरी में आता है, इसलिए बैंक आसानी से लोन पास कर देते हैं.