The Hundred: धीमे ओवर रेट पर होगी बड़ी कार्रवाई, मैच जीतना हो जाएगा बेहद मुश्किल!

 नई दिल्ली. समय पर 20 ओवर ना फेंकने के मामले लगभग हर दूसरे मैच में दिखाई देते हैं. नियमों के मुताबिक टीमों और कप्तानों पर जुर्माना लगता है लेकिन ये समस्या खत्म नहीं हो पा रही है. लेकिन अब इंग्लैंड में शुरू हो रहे The Hundred टूर्नामेंट में स्लो ओवर रेट की समस्या को खत्म करने के लिए एक ऐसा नियम लाया गया है जिसपर काफी ज्यादा चर्चा हो रही है. 21 जुलाई से शुरू होने वाले इस टूर्नामेंट में धीमे ओवर फेंकने वाली टीमों को बहुत बड़ा नुकसान होगा. मंगलवार को The Hundred की प्लेइंग कंडिशन का ऐलान किया गया जिसमें स्लो ओवर रेट के लिए कड़ी सजा है.


The Hundred की प्लेइंग कंडिशन के मुताबिक अगर टीमों का ओवर रेट धीमा रहा तो जुर्माने के तौर पर टीम को अपना एक अतिरिक्त खिलाड़ी 30 गज के घेरे के अंदर खड़ा करना होगा. अगर ऐसा हुआ तो बल्लेबाजी करने वाली टीम इसका काफी ज्यादा फायदा उठाएगी. एक अतिरिक्त खिलाड़ी 30 गज के अंदर होने से बल्लेबाज ज्यादा जोखिम ले पाएंगे और टीम बड़े स्कोर तक पहुंचेगी. ऐसे में स्लो ओवर रेट रखने वाली टीम के लिए मैच जीतना बेहद मुश्किल हो जाएगा. The Hundred के इस नियम को ऑस्ट्रेलिया की टी20 लीग बिग बैश लीग में भी लागू किया जा सकता है. मुमकिन है कि भविष्य में आईसीसी टूर्नामेंट्स में भी ये नियम लागू हो.


The Hundred के अन्य नियम
The Hundred टूर्नामेंट में हर पारी में 100 बॉल फेंकी जाएंगी. कप्तान एक गेंदबाज से लगातार पांच या फिर 10 गेंद फेंकवा सकेगा. एक गेंदबाज ज्यादा से ज्यादा 20 गेंद ही फेंक पाएगा.

अंपायर के पास एक सफेद रंग का कार्ड होगा और पहली पांच गेंद होने पर वो उसे उठाएगा. फ्रंट फुट नो बॉल तीसरा अंपायर ही देगा.

पावरप्ले और टॉस का नया नियम
The Hundred में पावरप्ले 25 गेंदों का होगा. इस दौरान सिर्फ 2 फील्डर 30 गज के दायरे के बाहर खड़े हो सकेंगे. The Hundred में टॉस पिच के बीच में नहीं होगा वहीं 25 गेंद के पावरप्ले के बाद टीमें 2 मिनट का स्ट्रैटिजिक टाइम आउट ले सकेंगी. कैच आउट होने के दौरान क्रीज बदलने पर भी पुराना बल्लेबाज स्ट्राइक नहीं ले सकेगा. स्ट्राइक पर नया बल्लेबाज ही आएगा.

मैच टाई हुआ तो?
ग्रुप स्टेज में मैच टाई होने पर दोनों टीमों में एक-एक अंक बटेंगे. एलिमिनेटर और फाइनल मैच में पांच गेंदों का मुकाबला होगा. अगर ‘सुपर फाइव’ टाई हुआ तो एक और बार 5-5 गेंदों का मुकाबला होगा. ये मुकाबला भी टाई रहा तो ग्रुप स्टेज में टॉप पर रहने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाएगा.

 


इंग्लैंड के घरेलू क्रिकेट में पहली बार डीआरएस का इस्तेमाल होगा. वहीं बारिश से प्रभावित होने वाले मुकाबलों में नए तरह का डकवर्थ-लुईस सिस्टम लागू होगा.