12 गेंदबाजों ने मिलकर लुटाए 653 रन, मिडिल ऑर्डर के खिलाड़ियों का अखाड़ा बना ये मैच, जानिए किस टीम की हुई जीत ?

 किसी भी टीम के लिए टॉप के बल्लेबाज उसकी सबसे बड़ी ताकत होते हैं. लेकिन हम जिस मुकाबले की बात कर रहे हैं, वो पूरी तरह से मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाजों का अखाड़ा बना दिखा. इस मुकाबले में हार और जीत का फैसला ही मध्यक्रम के खिलाड़ी करते दिखे. ये रोमांचक मैच इंग्लैंड में खेले जा रहे टूर्नामेंट रॉयल लंदन वनडे कप में लीसेस्टरशर और समरसेट के बीच खेला गया. इस मुकाबले में समरसेट के मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाजों के मचाए कोहराम का करारा जवाब लीसेस्टरशर के मिडिल ऑर्डर की ओर से भी मिला. मैच में दोनों टीमों को मिलाकर कुल 12 गेंदबाज आजमाए गए, जिनकी गेंदों पर 653 रन बने.

मुकाबले में पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में 7 विकेट पर 326 रन बनाए. समरसेट की ओर से उसके छठे नंबर और सातवें नंबर के बल्लेबाज ने जबरदस्त कमाल किया. छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे जॉर्ज बार्टलेट ने तेज तर्रार शतक जड़ा. उन्होंने 121 मिनट तक बल्लेबाजी की और 89 गेंदों पर 108 रन बनाए, जिसमें 4 चौके और 8 छक्के शामिल रहे. इनके अलावा 7वें नंबर पर बैटिंग करने उतरे जॉर्ज थॉमस ने 77 गेंदों पर 75 रन बनाए.

लीसेस्टरशर के कप्तान ने जड़ा शतक, टीम को दिलाई जीत

लीसेस्टरशर की टीम को 327 रन बनाने का बड़ा लक्ष्य मिला. इस टारगेट के आगे उसकी शुरुआत ठीक-ठाक रही पर उसका गियर बदला मिडिल ऑर्डर के दो बल्लेबाजों ने. लीसेस्टरशर के चौथे नंबर के बल्लेबाज और कप्तान लेविस हिल्स ने मैच में कप्तानी पारी खेली. उन्होंने शानदार शतक जमाया और 106 गेंदों पर 107 रन बनाए. इसके अलावा सातवें नंबर के बल्लेबाज लुइस किंबर ने 57 गेंदों पर 85 रन की तेज तर्रार पारी खेली, जिसमें 4 चौके और 5 छक्के शामिल रहे.

मिडिल ऑर्डर vs मिडिल ऑर्डर

वो कहते हैं न कि लोहा ही लोहे को काटता है. ठीक वैसे ही मिडिल ऑर्डर के दम पर सेट किए समरसेट के बड़े टारगेट का करारा जवाब भी लीसेस्टरशर के मध्यक्रम के दो बल्लेबाजों ने ही दिया. अपने दो मध्यक्रम के बल्लेबाजों के दम पर लीसेस्टरशर ने समरसेट के खिलाफ मुकाबला 5.2 ओवर पहले ही जीत लिया.