IND vs ENG: लॉर्ड्स टेस्ट से पहले भारतीय धुरंधर चोटिल, प्लेइंग-11 में जगह के लिए इन दिग्गजों के बीच होड़

 भारत और इंग्लैंड (India vs England) के बीच टेस्ट सीरीज का दूसरा मैच लंदन के ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान (Lord’s Test) में खेला जाना है. ये मुकाबला गुरुवार 12 अगस्त से शुरू होगा. नॉटिंघम (Nottingham) में हुआ सीरीज का पहला मैच बारिश के कारण पूरा नहीं हो सका था और ड्रॉ रहा. इसके कारण नतीजे के लिए लॉर्ड्स टेस्ट बेहद अहम है, लेकिन इससे पहले ही भारतीय टीम के लिए मुश्किलें बढ़ गई हैं. नॉटिंघम टेस्ट से ठीक पहले अगर मयंक अग्रवाल चोटिल हुए थे, तो अब लॉर्ड्स टेस्ट से पहले तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) की चोट ने टीम की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. हैम्स्ट्रिंग में खिंचाव के कारण शार्दुल ठाकुर दूसरे टेस्ट से बाहर हो गए हैं. ऐसे में सवाल उठने लगा है कि शार्दुल की जगह टीम में किसे शामिल किया जाएगा?

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, लॉर्ड्स में अभ्यास सत्र के दौरान शार्दुल की परेशानी और बढ़ गई. मैच से एक दिन पहले बुधवार को कप्तान विराट कोहली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि शार्दुल दूसरे टेस्ट से बाहर हो गए हैं, लेकिन वह तीसरे टेस्ट के लिए चयन के लिए उपलब्ध रहेंगे. शार्दुल को नॉटिंघम के पहले टेस्ट मैच में प्लेइंग इलेवन में जगह मिली थी. उन्हें गेंद को स्विंग कराने के साथ ही निचले क्रम में बैटिंग की क्षमता के कारण टीम में शामिल किया था. उन्होंने टेस्ट मैच में 4 विकेट लिए थे, जबकि सिर्फ एक पारी में बल्लेबाजी का मौका मिला था, जिसमें वह खाता नहीं खोल सके थे. हालांकि, यह अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि ठाकुर को पहले टेस्ट के दौरान चोट लगी थी या नहीं.

अश्विन को तरजीह मिलने के दो कारण

शार्दुल की चोट के कारण लॉर्ड्स में टेस्ट मैच की प्लेइंग इलेवन को लेकर सवाल, संभावनाएं और अटकलें जारी हैं. माना जा रहा है कि शार्दुल की चोट के कारण अश्विन को टीम में जगह मिलने की संभावना बन गयी है और इसकी सबसे बड़ी वजहों में बैटिंग की काबिलियत एक है.

नॉटिंघम टेस्ट के बाद कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि इस सीरीज के बाकी मैचों के लिए 4-1 के गेंदबाजी संयोजन (4 पेसर, 1 स्पिनर) की रणनीति को ही प्रमुखता देंगे, लेकिन दूसरे ही टेस्ट में वह फिर से विचार कर सकते हैं क्योंकि निचले क्रम की बल्लेबाजी की कमजोरी को देखते हुए किसी एक रणनीति पर अडिग रहना संभव नहीं है.

इसकी दूसरी प्रमुख वजह है लंदन का मौसम. लंदन में इस वक्त अधिकतम तापमान 24 डिग्री और औसत तापमान लगभग 14 डिग्री चल रहा है. अनुमान के मुताबिक, टेस्ट मैच के पांचों दिन भी मौसम ऐसे ही बना रहेगा, जिसस पिच के शुष्क रहने की संभावना है और ऐसे में अश्विन और जडेजा दोनों को टीम में रखना फायदेमंद हो सकता है.

इशांत-उमेश के पास मौका!

वहीं अगर पिच पर घास छूटी हुई मिलती है और टीम 4-1 के संयोजन के साथ ही उतरने का फैसला करती है, तो शार्दुल की जगह लेने के लिए इशांत शर्मा और उमेश यादव के बीच प्रतिस्पर्धा रहेगी. इशांत पहले टेस्ट में चोट के कारण चयन के लिए उपलब्ध नहीं रहे थे, लेकिन अब वह फिट हैं. लॉर्डस में 2014 में टीम इंडिया को मिली जीत के नायक इशांत ही थे और ऐसे में उनके अनुभव को प्राथमिकता मिल सकती है.