वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने दुनिया को दिखाया- एक ही दिन में 2 शतक कैसे जड़ते हैं

 नई दिल्‍ली. महान भारतीय क्रिकेटर महाराजा रणजीत सिंह (ranjit singh) ने आज से 125 साल पहले ही दुनिया को बता दिया था कि एक ही दिन में 2 शतक कैसे जड़ा जाता है. आज से ठीक 125 साल पहले यानी 22 अगस्‍त 1896 को उन्‍होंने खुद यह कमाल किया था. रणजीत सिंह ने फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में आज ही के दिन 2 शतक जड़ा था. इंग्‍लैंड के होव में ससेक्‍स की तरफ से खेलते हुए यॉर्कशर पर उनका कहर टूटा था. उन्‍होंने एक ही दिन में 100 और नाबाद 125 रन की पारियां खेली थी.

वह ससेक्‍स के एक ही मैच में 2 शतक लगाने वाली तीसरे बल्‍लेबाज थे, जबकि फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में एक ही दिन में 2 शतक जड़ने वाले पहले क्रिकेटर भी बन गए थे. उनके बाद भी कोई बल्‍लेबाज फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में ऐसा कमाल नहीं कर पाया.


लेग ग्लांस के जनक
रणजीत सिंह को लेग ग्लांस का जनक कहा जाता है. जब रणजीत सिंह (Ranjit Singh) क्रिकेट खेलते थे तो बल्लेबाज ऑफ साइड पर ही शॉट खेलते थे. अगर कोई बल्लेबाज लेग साइड की ओर शॉट लगाता था तो वो गेंदबाज और विरोधी टीम से माफी मांगता था.
हालांकि रणजीत सिंह (Ranjit Singh) ने इस धारणा को पूरी तरह बदल कर रख दिया. उन्होंने अपनी कलाई का जादू दिखाते हुए अपने पूरे करियर में लेग साइड पर खूब रन बटोरे. रणजीत सिंह की बल्लेबाज का लोहा क्रिकेट के जनक कहे जाने वाले डब्ल्यूजी ग्रेस भी मानते थे. उन्होंने एक बार कहा था कि दुनिया को अगले 100 सालों तक रणजी जैसा शानदार बल्लेबाज देखने को नहीं मिलेगा.

रणजीत सिंह के नाम 74 शतक
भारतीय क्रिकेट के पितामाह नाम से मशहूर महाराजा रणजीत सिंह इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर थे. 10 सितंबर 1872 को गुजरात में जन्‍में रणजीत सिंह ने टेस्‍ट क्रिकेट में इंग्‍लैंड का प्रतिनिधित्‍व किया था. उन्‍हीं के नाम से आज भारत में रणजी ट्रॉफी खेली जाती है.
रणजीत सिंह ने 15 टेस्ट मैचों में इंग्‍लैंड का प्रतिनिधित्‍व किया था. उन्होंने 44.95 के औसत से 989 रन बनाए. रणजीत सिंह ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 2 शतक ठोके और फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उनके बल्ले से 72 शतक निकले. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उनका औसत 56 से भी ज्यादा था.