अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड को मिला नया बॉस, तालिबान के कब्जे के बीच ACB में बड़ा बदलाव

 अफगानिस्तान (Afghanistan) इस समय जबरदस्त उथल-पुथल के दौर से गुजर रहा है. आतंकी संगठन तालिबान (Taliban) के देश में कब्जे के बाद से ही हालात पूरी तरह बदल चुके हैं और अनिश्चितता का माहौल है. ऐसे में देश का क्रिकेट भी मुश्किल में है और अभी आगे कोई स्पष्ट स्थिति नहीं दिख रही है. इतने सब बदलाव के साथ ही अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (ACB) में भी रविवार 22 अगस्त को एक बड़ा बदलाव हो गया. बोर्ड के पूर्व प्रमुख अजीजुल्लाह फाजली की एक बार फिर शीर्ष पद पर वापसी हुई है. उन्हें एसीबी का कार्यवाहक अध्यक्ष बनाया गया. फाजली ने इससे पहले सितंबर 2018 से जुलाई 2019 तक एसीबी के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया था.

अफगान बोर्ड ने रविवार को एक ट्वीट के जरिए फाजली की नियुक्ति की जानकारी दी. अपने ट्वीट में एसीबी ने बताया, “एसीबी के पूर्व अध्यक्ष अजीजुल्लाह फाजली को बोर्ड के कार्यवाहक अध्यक्ष के रूप में फिर से नियुक्त किया गया है. वह आगामी प्रतियोगिताओं के लिए एसीबी का नेतृत्व करने के साथ बोर्ड की कार्रवाई की देखरेख करेंगे.”

पाकिस्तान सीरीज पहली चुनौती

फाजली के सामने पहली चुनौती पाकिस्तान के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज को लेकर है. श्रीलंका में 3 सितंबर से खेली जाने वाली इस सीरीज पर असमंजस बरकरार है. काबुल से उड़ानों पर रोक लगी है, जिसके कारण टीम के श्रीलंका पहुंचने को लेकर स्थिति साफ नहीं है. ऐसे में यह देखा जाना बाकी है कि फाजली और उनके साथी टीम को किस तरह से श्रीलंका पहुंचाते हैं.

क्रिकेट का समर्थक है तालिबानः शिनवारी

अफगानिस्तान में बदले हुए हालात में क्रिकेट गतिविधियों के सामान्य रूप से चलने को लेकर आशंकाएं जताई जा रही हैं, लेकिन ताजा नियुक्ति से उम्मीद जगी है कि तालिबान क्रिकेट की राह में रोड़ा नहीं बनेगा. इससे पहले एसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हामिद शिनवारी ने इस सप्ताह की शुरुआत में समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि क्रिकेट गतिविधियां हमेशा की तरह चलती रहेंगी क्योंकि तालिबान खेल का समर्थन करता है.