IND vs ENG: भारतीय धुरंधरों का ‘मिशन लीड्स’ शुरू, हेडिंग्ले में 19 साल बाद टीम इंडिया की वापसी

 इंग्लैंड (England) के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त लेने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के हौसले बुलंद हैं. सीरीज में दो मैच पूरे हो चुके हैं और दोनों में टीम इंडिया (Team India) का ज्यादातर समय तक दबदबा रहा. नॉटिंघम (Nottingham) में बारिश ने जीत का मौका छीना, तो लॉर्ड्स (Lord’s Test) में टीम इंडिया ने हार की स्थिति से जीत का रास्ता निकाला और सफलता हासिल की. अब टीम सीरीज में अपनी बढ़त को दोगुना करना चाहती है और इस इरादे और लक्ष्य के लिए विराट कोहली (Virat Kohli) की अगुवाई में भारतीय दल लीड्स (Leeds) पहुंच चुका है, जहां बुधवार 25 अगस्त से तीसरे टेस्ट मैच की शुरुआत होगी. टीम इंडिया ने रविवार को हेडिंग्ले (Headingley) के मैदान पर अभ्यास भी किया.

भारतीय टीम ने शनिवार को लॉर्ड्स टेस्ट में जीत के बाद कुछ दिन ब्रेक लिया और शनिवार को लीड्स में कदम रखे. रविवार से टीम हेडिंग्ले के मैदान में तैयारियां भी शुरू कर दी. इस दौरान कप्तान विराट कोहली, उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे और सीनियर सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा से लेकर जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी की तेज गेंदबाजी जोड़ी के अलावा रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा की स्पिन जोड़ी ने नेट्स पर पसीना बहाया. विकेटकीपर ऋषभ पंत ने भी अभ्यास सत्र में हिस्सा लिया.

मिडिल ऑर्डर से बेहतर प्रदर्शन की आस

भारतीय टीम की बल्लेबाजी के लिहाज से ये टेस्ट काफी अहम है, क्योंकि टीम का मिडिल ऑर्डर अभी तक उपयोगी योगदान नहीं दे सका है. हालांकि लॉर्ड्स टेस्ट की दूसरी पारी में चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे ने मुश्किल स्थिति में शतकीय साझेदारी कर टीम को संभाला था, लेकिन कप्तान विराट कोहली के बल्ले से बड़ी पारी न निकल पाने के कारण चिंता बरकरार है. पुजारा और रहाणे दूसरी पारी से मिले आत्मविश्वास को लीड्स में भी जारी रखना चाहेंगे, जबकि कोहली अपनी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील करना चाहेंगे.

2002 के बाद पहली बार हेडिंग्ले में टीम इंडिया

टीम इंडिया फिलहाल सीरीज में आगे है और कप्तान कोहली की नजरें लीड्स टेस्ट में जीत के साथ श्रृंखला में 2-0 की अजेय बढ़त लेने पर टिकी हैं. भारत ने हेडिंग्ले में पिछला टेस्ट 2002 में खेला था. तब भारत की ओर से सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली ने शतक जमाए थे. हालांकि, उसके बाद से भारत को इस मैदान में कोई मुकाबला खेलने का मौका नहीं

मिला और मौजूदा टीम के किसी खिलाड़ी को इस मैदान पर टेस्ट खेलने का अनुभव नहीं है.