तेजस ट्रेन से चलेगी राजेंद्रनगर टर्मिनल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, यात्रियों को मिलेंगी कई हाईटेक सुविधाएं

 पूर्व मध्य रेल की प्रीमियम ट्रेनों में से एक 02309/02310 राजेंद्रनगर टर्मिनल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के मौजूदा एलएचबी रेक को हाईटेक सुविधाओं से लैस तेजस रेक में बदलने का निर्णय लिया गया है. इस बदलाव से राज्य की राजधानी पटना की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से बेहतर कनेक्टिविटी बहाल हो पाएगी. हाईटेक विशेषताओं के साथ, राजधानी स्पेशल के नए तेजस रेक के साथ परिचालन शुरू होने से यात्रियों को सुखद यात्रा का आनंद मिलेगा. तेजस रेक से लैस 02309/02310 राजेंद्रनगर टर्मिनल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस स्पेशल का परिचालन 01.09.2021 से शुरू किए जाने की संभावना है.

यह तेजस रेक ऑटोमेटिक प्लग इनडोर प्रणाली से युक्त है. इसके तहत ट्रेन के सभी गेट केंद्रीकृत रूप से नियंत्रित होंगे और सभी गेट के बंद होने तक ट्रेन नहीं चलेगी. यात्री सुरक्षा को देखते हुए यह काफी महत्वपूर्ण है. सीसीटीवी कैमरा युक्त इस तेजस रेक के प्रत्येक कोच में यात्रियों को यात्रा संबंधी महत्वपूर्ण सूचनाएं जैसे अगला स्टेशन, शेष दूरी, आगमन/प्रस्थान का समय, विलंब और सुरक्षा संबंधी जानकारी देने के लिए प्रत्येक कोच के अंदर 02 एलसीडी डिस्प्ले लगाए गए हैं.

हर बोगी में डस्टबीन

आकर्षक इंटीरियर के साथ ऐसा बर्थ बनाया गया है जिससे यात्रियों को आरामदायक यात्रा का आनंद मिल सके. सभी कोचों में पर्दे की जगह रोलर ब्लाइंड लगाए गए हैं जो साफ-सफाई को आसान बनाते हैं. प्रत्येक कंपार्टमेंट में डस्टबीन उपलब्ध रहेंगे जिससे कोच में सफाई बनाए रखने में मदद मिलेगी.

बोगियों में एयर स्प्रिंग सस्पेंशन

एसी सेकंड और थर्ड श्रेणी के कोचों में साईड लोअर बर्थ की बनावट में बदलाव लाते हुए उसे सिंगल पीस बेड का रूप दिया गया है. साथ ही ऊपर की बर्थ पर जाने के लिए सुविधाजनक व्यवस्था की गई है. सभी यात्री के लिए मोबाइल चार्जिंग पॉइंट दिया गया है. इन कोचों को आरामदायक बनाने और बेहतर यात्रा अनुभव के लिए बोगियों में एयर स्प्रिंग सस्पेंशन दिया गया है.

कोचों में ऑटोमेटिक फायर अलार्म

सभी कोचों में ऑटोमेटिक फायर अलार्म और डिटेक्शन सिस्टम लगाए गए हैं. ऐसी व्यवस्था की गई है कि आग लगने की स्थिति में ऑटोमेटिक ब्रेक लग जाएगा. इसी तरह यात्रियों की सुरक्षा में और सुधार के लिए नए वायरिंग के साथ व्हील स्लाईड प्रोटेक्शन डिवाईस लगाए गए हैं.

बच्चों के लिए इनफेंट केयर सीट

सभी कोचों में बायो-वैक्यूम टॉयलेट लगाए गए हैं जो अच्छी फ्लशिंग के कारण शौचालय में बेहतर साफ-सफाई बनाए रखने में मदद पहुंचाता है. साथ ही इससे पानी की भी बचत होती है. शौचालय दुर्गंध नियंत्रण प्रणाली से युक्त है. छोटे बच्चे के साथ सफर कर रही महिला यात्रियों की सुविधा के लिए ‘Infant care seat’ का प्रावधान किया गया है. रेलवे का दावा है कि लंबी दूरी की यात्रा के लिए इस आधुनिक तेजस ट्रेन की शुरुआत के साथ यात्रा अनुभव में एक व्यापक बदलाव आएगा.