जिस मैदान पर खेलकर जेल जाना पड़ा, वहीं लौटकर पाकिस्‍तानी गेंदबाज ने लिए 10 विकेट, इंग्‍लैंड को दी करारी शिकस्‍त

 कहते हैं ऊपर वाला दूसरा मौका जरूर देता है. अपने ऊपर लगे दाग को धोने का एक और मौका उसने पाकिस्तानी गेंदबाज मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) को भी दिया. साल था 2016. मैदान था क्रिकेट का मक्का यानी लॉर्ड्स और सामने टीम थी इंग्लैंड. पाकिस्तान (Pakistan) की टीम इंग्लैंड के इस दौरे पर अपना पहला टेस्ट मैच खेलने उतरी थी. लॉर्ड्स वही मैदान था जहां साल 2010 में पाकिस्तानी गेंदबाज मोहम्मद आमिर पर स्पॉट फिक्सिंग (Spot Fixing) का बदनुमा दाग लगा था. और, जिसके एवज में उन्हें उन्हें जेल भी जाना पड़ा था. 6 साल बाद यानी साल 2016 में उसी लॉर्ड्स पर आमिर को चमकने का और पाकिस्तान को जीत दिलाने का किस्मत ने एक और मौका दिया. आमिर ने टीम में वापसी करते हुए इस मौके को दोनों हाथों से लपका. इंग्लैंड के खिलाफ दौरे के पहले टेस्ट में ही पाकिस्तान ने जीत का बिगुल फूंका, जिसमें आमिर और उनके साथी खिलाड़ी यासिर शाह (Yasir Shah) का बड़ा हाथ रहा.

मुकाबले में पहले पाकिस्तान ने बैटिंग की. दौरे पर पाकिस्तान के कप्तान रहे मिस्बाह-उल-हक ने शानदार शतक जड़ा. उन्होंने 114 रन की बेजोड़ पारी खेली. मिस्बाह की कप्तानी पारी की बदौलत पाकिस्तान ने पहली पारी में 339 रन बनाए. इंग्लैंड की ओर से पहली पारी में क्रिस वोक्स ने सबसे ज्यादा 6 विकेट चटकाए. अब बारी इंग्लैंड की थी. पाकिस्तान के 339 रन के जवाब में इंग्लैंड की पहली पारी 272 रन पर ही सिमट गई. इंग्लैंड की ओर से भी उसके कप्तान एलेस्टेयर कुक ने सबसे ज्यादा 81 रन बनाए, जिन्हें खतरा बनता देख मोहम्मद आमिर ने अपना शिकार बनाया. ये इस इनिंग में आमिर का एकमात्र लेकिन इंग्लैंड की बैटिंग लाइन अप का लिया सबसे बड़ा विकेट था. पहली पारी में पाकिस्तान के सबसे सफल गेंदबाज यासिर शाह रहे, जिन्होंने 6 बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया.

पहली पारी में पाकिस्तान को 67 रन की बढ़त

पाकिस्तान के पास 67 रन की अच्छी बढ़त थी. इस शानदार लीड के साथ उसने अपनी दूसरी इनिंग शुरू की. पाकिस्तान की दूसरी पारी 215 रन पर सिमट गई. एक बार फिर से इंग्लैंड के गेंदबाज क्रिस वोक्स ने 5 बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया.  बहरहाल, पाकिस्तान के पास 67 रन की लीड पहले से थी. इसमें दूसरी इनिंग का स्कोर मिलाने के बाद उसका कुल टोटल 282 रन हो गया. और, इस तरह लॉर्ड्स टेस्ट के चौथे दिन पाकिस्तान ने इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 283 रन का लक्ष्य रखा.

आमिर और उनके ‘यार’ ने इंग्लैंड को जीत से 75 रन दूर रखा

इंग्लैंड ने लक्ष्य का पीछा करना शुरू किया. उसने टेस्ट मैच के 5वें दिन यानी 17 जुलाई 2016 को 200 रन की दहलीज तो पार की पर लक्ष्य को हासिल नहीं कर सकी. जीत जब 75 रन दूर थी, इंग्लैंड की टीम ऑलआउट हो चुकी थी. उसे लक्ष्य से दूर रखने में मोहम्मद आमिर अपने साथी गेंदबाज यासिर शाह के साथ मिलकर कामयाब रहे. आमिर ने दूसरी पारी में इंग्लैंड के टैलेंडर्स को टीम के लिए सिरदर्द नहीं बनने दिया तो यासिर शाह ने मेजबानों के मिडिल ऑर्डर को ऐसे लपेटा जैसे रीढ़ की हड्डी चटकती है.

2010 की कड़वी यादों को 2016 में धो डाला!

स्पॉट फिक्सिंग का दर्द झेलने के 6 साल बाद लॉर्ड्स पर पाकिस्तान को मिली 75 रन की ये जीत बड़ी थी. पाकिस्‍तानी क्रिकेट टीम के लिए ये भावुक करने वाला लम्‍हा था. इंग्‍लैंड को क्रिकेट के मक्‍का लॉडर्स पर हराना किसी भी टीम के लिए आसान काम तो बिल्‍कुल नहीं है. लेकिन, यासिर शाह के 10 विकेट और पहली पारी में जमाए मिस्बाह के शतक के दम पर पाकिस्तान ने कर दिखाया. मोहम्मद आमिर ने भी मैच में 3 विकेट लेकर जीत में अपना किरदार निभाया. और इसी के साथ 2010 में लॉर्ड्स पर मिली कड़वी यादों को उन्होंने पीछे छोड़ा.