ताजपोशी के बाद कैलाश विजयवर्गीय ने नवजोत सिंह सिद्धू को याद दिलाया उनका बयान, एक क्लिक में पढ़ें सभी नेताओं के रिएक्शन

 नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का नया प्रमुख नियुक्त किए जाने के तुरंत बाद तमाम नेताओं के बयान सामने आ रहे हैं. पूर्व केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार ने उन्हें पार्टी के लिए एक ‘संपत्ति’ बताया. उन्हों ने कहा कि वे सभी 2022 के राज्य विधानसभा चुनाव जीतने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ मिलकर काम करेंगे. वहीं, उनके इस बयान के बाद कई नेताओं ने सिद्धू के खिलाफ भी बयान दिया है.

सिद्धू को पंजाब कांग्रेस प्रमुख बनाए जाने पर बीजेपी नेता केलाश विजयवर्गीय की भी प्रतिक्रिया सामने आई. उन्होंने ट्वीट कर राहुल गांधी और सिद्धू को उनका पुकाना बयान याद दिलाया. उन्होंने कहा यह वही सिद्धू हैं, जिन्होंने कहा था कि कांग्रेस मुन्नी से भी ज्यादा बदनाम है. हम क्या कहें ये किस्सा उनका है, ये वे जानें कि वे जानें.

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मनाया जश्न

अश्विनी कुमार ने पंजाब कांग्रेस के भीतर चल रही दरार के बारे में पूछे जाने पर, कहा कि जो विवाद या मतभेद अभी भी मौजूद हैं, उन्हें आने वाले दिनों में बातचीत के जरिए जल्द ही सुलझा लिया जाएगा. वहीं, नवजोत सिंद सिद्धू को पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए जाने पर कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अमृतसर में जश्न मनाया. उन्होंने सिद्धू को कांग्रेस प्रमुख बनने को लेकर बधाई दी.

इसके साथ ही नवजोत सिंह सिद्धू की पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पर ताजपोशी के साथ ही कैप्टन और कैप्टन खेमे से जुड़े नेता पूरी तरह से आलाकमान के द्वारा दरकिनार किए गए हैं. पंजाब से जो चार वर्किंग प्रेसिडेंट नवजोत सिंह सिद्धू के साथ लगाए गए हैं उनमें भी कैप्टन अमरिंदर सिंह की चॉइस को दरकिनार किया गया है. कैप्टन अमरिंदर सिंह के पसंदीदा विजय इंदर सिंगला, मनीष तिवारी, राज कुमार वेरका और अन्य नेताओं को वर्किंग प्रेसिडेंट तक नहीं लगाया गया है.

वहीं, कांग्रेस नेता सुखपाल सिंह खैरा ने 10 विधायकों की ओर से संयुक्त बयान जारी किया. कांग्रेस के सात विधायकों में कुलदीप सिंह वैद, फतेहजंग बाजवा, गुरप्रीत सिंह जीपी, संतोख सिंह, बलविंदर सिंह लाडी, जोगिंदरपाल और हरमिंदर सिंह गिल हैं.