PF का लाभ लेना है तो फॉर्म 10C के बारे में जान लीजिए, वरना बाद में नहीं निकाल पाएंगे पैसे

 इंप्लॉई पेंशन फंड EPF से जुड़े हैं तो यह खबर आपके लिए है. ईपीएफ को ही इंप्लॉयर पेंशन स्कीम EPS भी कहते हैं जिसे सरकार की पेंशन फंड संस्था ईपीएफओ संचालित करती है. जो लोग संगठित क्षेत्रों में रोजगार करते हैं, उनके लिए इस फंड से पेंशन का इंतजाम किया जाता है. इसके लिए सैलरी का कुछ हिस्सा पेंशन फंड में जुड़ता जाता है. जैसा कि आपको पता है कि कंपनी और कर्मचारी दोनों को ईपीएफ में योगदान (रकम देनी होती है) देना होता है, ताकि कर्मचारी रिटायर हो तो उसके पेंशन के रूप में एक निश्चित राशि मिलती रहे. यह काम यूनिवर्सल अकाउंट नंबर या UAN के जरिये होता है. इसी कड़ी में फॉर्म 10C का भी जिक्र आता है.

जब कोई कर्मचारी किसी कंपनी से रिटायर होता है तो उसके पास दो विकल्प होते हैं. अगर वह कर्मचारी फिर किसी कंपनी का हिस्सा बनता है तो पीएफ के पैसे को उस कंपनी में ‘कैरी फॉरवर्ड’ कर सकता है. या वह चाहे तो उस पैसे को निकाल सकता है. ये दोनों विकल्प उस कर्मचारी के पास मौजूद होते हैं. ऐसे में अगर वह कर्मचारी पीएफ का पैसा निकालना चाहता है, तो उसे फॉर्म 10C भरना जरूरी होता है. इसके लिए उसके पास यूएएन नंबर होना चाहिए जो कि ईपीएफ का 12 अंकों का यूनिक नंबर होता है.

कर्मचारी के पास ईपीएफ सर्टिफिकेट होता है जिसमें उसके सर्विस पीरियड और परिवार के सदस्यों की पूरी डिटेल होती है. परिवार की डिटेल इसलिए दी जाती है ताकि दुर्भाग्यवश वह कर्चमारी इस दुनिया को छोड़ कर चला जाए तो पीएफ का पैसा नॉमिनी या कानूनी हकदार को मिल सके. ये सभी फायदे तभी मिल पाएंगे जब कर्मचारी फॉर्म 10C भरेगा. आइए इसके बारे में जानते हैं.

फॉर्म 10C कैसे भरें

यह फॉर्म आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से भर सकते हैं. इसके लिए बस कुछ जरूरी स्टेप्स पूरे करने होते हैं. ऑनलाइन फॉर्म भरने का तरीका ये है-

  • ईपीएफ के पोर्टल पर जाएं और Employers Portal टैब पर क्लिक करें
  • अगले पेज खुलेगा जहां आपको UAN नंबर और पासवर्ड भरना होगा
  • यहां मेन्यू बार में आपको Online Services टैब दिखेगा जिस पर क्लिक कर दें
  • ड्रॉपडाउन मेन्यू में जाकर फॉर्म 10C, 19 और 31 पर क्लिक करें
  • अगले पेज पर अपनी नौकरी, केवाईसी और मेंबर डिटेल की जांच कर लें
  • वेरिफिकेशन के लिए अपने रजिस्टर्ड बैंक अकाउंट के अंतिम 4 अंक दर्ज करें
  • Certificate of Undertaking के टर्म और कंडीशन को एग्री करें
  • अगले पेज के बॉटम पर जाएं और I want to apply for पर क्लिक करें और Only Pension Withdrawal Form 10C को सेलेक्ट करें
  • अब Get Aadhaar OTP को सेलेक्ट करें. इसके पहले अपना एड्रेस दर्ज करें
  • आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी मिलेगा. इसे Validate OTP and Submit Claim Form में दर्ज करना होगा

ईपीएफ विड्रॉल फॉर्म 10C भर लेने के बाद आपके मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस मिलेगा. कुछ दिनों बाद आपके बैंक अकाउंट में पीएफ का पैसा ट्रांसफर हो जाएगा. हालांकि इस फॉर्म का लाभ सबको नहीं मिलता और कुछ शर्तें होती हैं. अगर किसी मेंबर ने जॉब से 10 साल की सर्विस से पहले इस्तीफा दिया हो, अगर कोई मेंबर किसी कंपनी में 10 साल की नौकरी किए बिना 58 साल का हो जाए तो उसे फॉर्म 10C का फायदा मिलेगा. परमानेंट रिटायरमेंट के पहले ही इस फॉर्म का लाभ लिया जा सकता है.

फॉर्म में क्या भरना होता है

फॉर्म में पीएफ के पैसे का क्लेम करने वाले का नाम, जन्मदिन, पिता का नाम, पति का नाम (अगर एप्लिकेबल हो), रिटायरमेंट से पहले कर्मचारी ने जिस कंपनी में काम किया है उसका नाम और पता, जिस पिछली कंपनी में किया हो उसका रीजन कोड और उस व्यक्ति का पीएफ अकाउंट नंबर, पिछली कंपनी की जॉइनिंग डेट, जॉब छोड़ने की वजह और तारीख, घर का पूरा पता, परिवार की पूरी जानकारी और पैसा पोस्टल मनी ऑर्डर से, चेक से या इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट से चाहिए, उसकी जानकारी देनी होती है.