यह बैंक खाता फ्री में देता है 1 करोड़ का बीमा, ऑनलाइन खोल सकते हैं अकाउंट, KYC का झंझट भी है कम

 बैंक खाते का खयाल आते ही बस एक ही बात दिमाग में आती है. वह है सेविंग अकाउंट. इसे हिंदी में बचत खाता कहते हैं क्योंकि यह मुख्य रूप से पाई-पाई जोड़ने और बचाने के लिए होता है. इस खाते के और भी कई अहम उपयोग हैं. जैसे इमरजेंसी में पैसे जुटाने हों, किसी घटना के खिलाफ फंड जमा करना हो, खरीदारी के खर्च आदि आदि. रिटर्न और जमा पूंजी पर ब्याज की दर देखकर हो सकता है आपको लगे कि यह खाता वाहियात है, बेकार है, किसी काम में नहीं आता. यदि आप ऐसा सोचते हैं तो जरा ठहरें. दो-चार बार सोचें-विचारें, तब पता चलेगा सेविंग खाता कितना मायने रखता है. यह वही खाता है जहां आप पैसे डालकर भूल जाते हैं. कई साल बाद बैंक जाते हैं तो मैनेजर बताता है कि आपका कुछ रुपया हजारों में तब्दील हो गया है.

ये तो बस फायदे का पहला पायदान है. सेविंग अकाउंट के ऐसे-ऐसे फायदे हैं जिसके बारे में शायद खाताधारक भी न पता हो. लेकिन केवल फायदे-फायदे ही नहीं हैं. इसके साथ कुछ घाटा भी है जिसे नजरंदाज नहीं कर सकते. खाता खोलते वक्त उन खामियों पर भी गौर कर लें, जो समय-समय पर चुभ सकती हैं. उसके बारे में पहले ही प्लानिंग हो जानी चाहिए. आइए बात सबसे पहले फायदे की.

सेविंग अकाउंट के फायदे

बचत पर ब्याज- कितनी अच्छी बात है कि पैसे भी बचें और उस पर कमाई भी हो. ये कमाई ब्याज के रूप में मिलती है. सेविंग खाते में आपने जो पैसा जोड़ा, उस पर हर तिमाही ब्याज मिलता है और आपके मूलधन के साथ जुड़ता जाता है. इससे आपका पैसा बेकार या स्थिर नहीं होता. वह चलायमान रहता है क्योंकि उसके साथ ब्याज जुड़ता है. आप उस ब्याज को निकाल कर खर्चा चला सकते हैं. फिर जब हाथ में पैसा आए तो सेविंग अकाउंट में जमा कर सकते हैं.

सुरक्षा- निवेश के कई साधन देखे-सुने या आजमाए होंगे. लेकिन क्या आपको पता है कि सेविंग खाता निवेश का सबसे सुरक्षित जरिया है. आप पैसा जमा कर आराम से रिटर्न की आस लगा सकते हैं. वह भी बाजार के किसी भी जोखिम के बिना. आज के जमाने में मार्केट रिस्क की खूब बात होती है. सेविंग खाता इससे अनजान और बेपरवाह है. रिस्क को माइनस करने के बाद आपके हाथों में रिटर्न आ जाता है. निवेश के अन्य तरीके में यह खूबी नहीं.

इस्तेमाल की आजादी- जैसे मार्केट रिस्क की बात होती है, वैसे ही लिक्विडिटी भी बेहद चर्चा में रहता है. कुछ अर्थों में लिक्विडिटी एक बदनाम शब्द है, लेकिन सेविंग खाते के साथ नहीं. सेविंग खाता बहुत उच्च लिक्विडिटी वाला होता है. यानी जब जरूरत पड़े, उसमें जमा पैसे का उपयोग कर सकते हैं. बाकी निवेश की तरह इसमें लॉक-इन पीरियड नहीं होता. अर्थात जमा पैसा बैंक में जाम नहीं हो सकता. उसे आप जब चाहें ले सकते हैं. ऐसा नहीं कि दो-चार साल का लॉक-इन पीरियड है. लेनदेन को लेकर पाबंदी नहीं है. जितनी बार चाहें पैसे निकालें, जमा करें. न जुर्माने का झंझट न ही ट्रांजेक्शन की लिमिट का.

सेविंग खाते का घाटा

लिक्विडिटी होने के चलते लोग सेविंग खाते से बेधड़क पैसे निकालते हैं. जो फिजूलखर्ची वाले लोग हैं, वे सेविंग खाते का दुरुपयोग करते हैं. बचत खाते को खर्च का मशीन बना देते हैं. बाद में पता चलता है कि बचत खाते में कुछ बचता नहीं. बचत खाते की ब्याज दरें चढ़ती-उतरती हैं. कभी कम तो कभी ज्यादा. महंगाई से नाता कम होता है. यानी अगर महंगाई बढ़े तो ब्याज दरें बढ़ जानी चाहिए. ऐसा नहीं होता. अकसर देखने में आता है कि महंगाई दर से कम ही सेविंग पर रिटर्न मिलता है. इस उतार-चढ़ाव के चलते सेविंग खाते से होने वाली आमदनी को फिक्स या भरोसेमंद नहीं मान सकते. मिनिमम बैलेंस का चक्कर अलग से है. अगर न्यूनतम राशि खाते में नहीं बचा कर चलते हैं तो जुर्माना भरना होता है. इन सबके बावजूद आप पाएंगे कि सेविंग खाते का फायदा हर सूरत में उसके घाटे पर भारी पड़ता है. सब कुछ निर्भर करता है कि आप खाता कैसे चलाते हैं.

IDFC FIRST Bank का खास खाता

IDFC FIRST Bank इस तरह का एक खास खाता चलाता है. इस खाते पर देश के अन्य बैंकों की तुलना में ज्यादा ब्याज मिलता है. इस पर कई फायदे मिलते हैं. जैसे सेविंग अकाउंट को ऑनलाइन खोल सकते हैं. सभी औपचारिकताएं डिजिटल तौर पर पूरी की जाएंगी. बैंक की ब्रांच में कागज ढोकर ले जाने की जरूरत नहीं. यहां तक कि केवाईसी भी डिजिटली हो जाता है. साल 2021 में IDFC FIRST Bank के सेविंग खाते पर 6 लाख रुपये की परचेज लिमिट मिलती है. हर दिन 2 लाख रुपये तक एटीएम से निकाल सकते हैं.

सबसे खास बात कि सेविंग अकाउंट पर एयर एक्सिडेंटल कवर मिलता है. अगर अकाउंट होल्डर की मृत्यु विमान हादसे में होती है तो उसके नॉमिनी को 1 करोड़ रुपये मिलेंगे. इस खाते में मिलने वाले डेबिट कार्ड से जितनी बार मर्जी करे एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं. इसकी कोई लिमिट तय नहीं है. यह सबकुछ फ्री में है. बैंक के इस कार्ड का नाम है वीजा सिग्नेचर डेबिट कार्ड.