हरमनप्रीत कौर ने टूटी अंगुली के साथ 115 गेंदों पर जड़े नाबाद 171 रन, सेमीफाइनल में ऑस्‍ट्रेलिया को किया जमींदोज

 ऐसे कारनामे पुरुष क्रिकेट में तो अक्‍सर देखे जाते हैं, लेकिन महिला क्रिकेट में ये एक असामान्‍य घटना थी. खासकर तब जबकि ये महिला वनडे वर्ल्‍ड कप का मंच था. खासकर तब जब ये वर्ल्‍ड कप का सेमीफाइनल मुकाबला था. और खासकर तब जब ये मैच मजबूत ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के खिलाफ खेला जा रहा था. भारत और ऑस्‍ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच ये मैच आज ही के दिन यानी 20 जुलाई को खेला गया था. इस मैच में हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) ने चौथे नंबर पर बल्‍लेबाजी के लिए उतरते हुए 115 गेंदों पर 171 रनों की नाबाद पारी खेली. इसमें उन्‍होंने 20 चौके और 7 छक्‍के लगाए. इस ऐतिहासिक प्रदर्शन के चलते उन्‍होंने भारतीय टीम को दूसरी बार वर्ल्‍ड कप के खिताबी मुकाबले में जगह दिलाई.

20 जुलाई 2017 को डर्बी के मैदान पर खेला गया ये महिला वनडे वर्ल्‍ड कप का दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला था. इसमें भारतीय टीम की कप्‍तान मिताली राज ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी चुनी. भारत ने चार विकेट पर 281 रनों का स्‍कोर खड़ा किया. ये मैच बारिश के चलते 42 ओवर का कर दिया गया था. टीम इंडिया के दो विकेट 35 रन पर गिर चुके थे. तब हरमनप्रीत कौर ने क्रीज पर कदम रखा. उनकी अंगुली डिसलोकेट हो गई थी और मांसपेशियों में खिंचाव भी था. बावजूद इसके उन्‍होंने आते ही धमाका कर दिया. पहला अर्धशतक उन्‍होंने 64 गेंद पर बनाया. इसके बाद अगले पचास रन 26 गेंदों पर और फिर 150 रन तक का सफर सिर्फ 17 गेंदों में पूरा किया. इस तरह हरमनप्रीत ने 115 गेंदों पर 171 रनों की नाबाद और सनसनीखेज पारी खेल डाली. इसमें 20 चौके और सात छक्‍के शामिल थे. मिताली राज ने 36 रन बनाए.

ऑस्‍ट्रेलिया के लिए ब्‍लैकविल ने 56 गेंदों पर जड़े 90 रन

जवाब में ऑस्‍ट्रेलियाई टीम 40.1 ओवर में 245 रन ही बना सकी. टीम के लिए एलेक्‍स ब्‍लैकविल ने 56 गेंदों पर 90 रन बनाए. इसमें 10 चौके और 3 छक्‍के लगाए. एलिस विलानी ने 58 गेंदों पर 13 चौकों की मदद से 75 रन बनाए. उनके अलावा एलिस पेरी ने 38 रनों की पारी खेली. ऑस्‍ट्रेलिया की ओर से पांच खिलाड़ी ही दहाई के अंकों तक पहुंच सकीं. भारतीय टीम की ओर से दीप्ति शर्मा ने 3 विकेट हासिल किए तो झूलन गोस्‍वामी और शिखा पांडे ने इंग्‍लैंड की दो-दो बल्‍लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाकर टीम इंडिया की जीत का रास्‍ता आसान किया. इस तरह भारत ने ये मैच 36 रनों से अपने नाम किया.