IND vs SL: संजू सैमसन घुटने की चोट से पूरी तरह उबरे, तीसरे वनडे में मौका मिल सकता है

 नई दिल्ली. टीम इंडिया के लिए अच्छी खबर है कि विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन (Sanju Samson) घुटने की चोट से पूरी तरह उबर गए हैं और मेडिकल टीम ने उन्हें फिट घोषित कर दिया है. वो अब सेलेक्शन के लिए उपलब्ध हैं. ऐसे में टीम मैनेजमेंट आखिरी वनडे में सैमसन को मौका दे सकता है. संजू घुटने की मांसपेशियों में खिंचाव की वजह से रविवार को श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के पहले वनडे में नहीं खेल पाए थे.


संजू की गैरहाजिरी में ईशान किशन को श्रीलंका के खिलाफ पहले मैच में वनडे डेब्यू का मौका मिला और उन्होंने पहला मैच में ही शानदार अर्धशतक जड़ा. इसी वजह से दूसरे वनडे के लिए कप्तान शिखर धवन ने ईशान पर भी भरोसा जताया और उन्हें प्लेइंग-11 में शामिल किया.


केरल के तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी ट्वीट करके संजू के चोट से उबरने पर खुशी जताई थी. उन्होंने लिखा था कि संजू भारतीय टीम में चुने जाने के लिए दोबारा उपलब्ध होंगे. दरअसल, संजू भी केरल से आते हैं और थरूर उनके प्रदर्शन पर लगातार नजर रखते हैं और कई बार उन्हें टीम इंडिया में मौका न मिलने पर भी नाखुशी जता चुके हैं.

सैमसन को राजस्थान रॉयल्स का कप्तान बनाया गया
संजू को आईपीएल 2021 के लिए राजस्थान रॉयल्स ने टीम का कप्तान बनाया था. उन्होंने लीग के कोरोना के कारण स्थगित होने से पहले 7 मैच में 277 रन बनाए थे. इसमें एक शतक शामिल था. उनकी टीम अंक तालिका में पांचवें स्थान पर थी. राजस्थान ने सात में से तीन मैच जीते थे और बाकी चार में उसे हार मिली थी.

 


संजू मिले मौकों को भुना नहीं पाए
श्रीलंका सीरीज से पहले इस बात को लेकर काफी चर्चा हो रही थी कि टीम मैनेजमेंट ईशान किशन और संजू सैमसन में किसे विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी. हालांकि, बाद में बाजी ईशान ने मारी. संजू सैमसन की राह में चोट भी रोड़ा बनी. हालांकि, उनके खेल में निरंतरता की भी कमी है. इसी वजह से वो बार-बार नजरअंदाज हो जाते हैं.

सैमसन को कई मौके मिले हैं. लेकिन वो अपने टैलेंट के साथ इंसाफ नहीं कर सके. उनकी तकनीक किशन के मुकाबले बेहतर है. ऐसा क्रिकेट के कई जानकार कह चुके हैं. लेकिन जरूरत से ज्यादा आक्रामक बल्लेबाजी करने की वजह से वो बड़ी पारी नहीं खेल पाए हैं और उन्हें टीम से बाहर किया गया. संजू ने 7 टी20 में 11.8 की औसत से 83 रन बनाए हैं.