‘हिंदू लड़के की तरफ से हिंदू लड़की से झूठ बोलना भी जिहाद, हम इसके खिलाफ कानून लाएंगे’,- हिमंत बिस्व सरमा

 असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को कहा कि हिंदुत्व जीवन का एक तरीका है. उन्होंने दावा किया कि अधिकतरधर्मों के अनुयायी हिंदुओं के वंशज हैं. भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता ने राज्य में उनकी सरकार का दूसरा महीना पूरा होने के मौके पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हिंदुत्व की शुरुआत 5,000 साल पहले हुई थी और इसे रोका नहीं जा सकता.

साथ ही उन्होंने कहा कि हिंदुत्व जीवन का एक तरीका है. मैं या कोई इसे कैसे रोक सकता है? लगभग हम सभी हिंदुओं के वंशज हैं. सरमा ने कहा कि हिंदुत्व को हटाया नहीं जा सकता क्योंकि इसका मतलब होगा अपनी जड़ों और मातृभूमि से दूर जाना. वहीं लव जिहाद के मुद्दे के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें इस शब्द को लेकर आपत्ति है, लेकिन उन्होंने कहा कि किसी को भी महिला को धोखा देने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

हिंदू लड़के की तरफ से हिंदू लड़की से झूठ बोलना भी जिहाद

सरमा ने कहा कि सरकार किसी भी महिला को किसी के द्वारा धोखा दिए जाने को बर्दाश्त नहीं करेगी, चाहे वो हिंदू हो या मुस्लिम. हमारी बहनों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ऐसे अपराधियों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी. हिंदू लड़के की तरफ से हिंदू लड़की से झूठ बोलना भी जिहाद है. हम इसके खिलाफ कानून लाएंगे.

विपक्ष की तरफ से उनके उस बयान के लिए आलोचना के बारे में पूछे जाने पर कि विधायक कानून बनाने के लिए हैं और मंत्री निर्वाचन क्षेत्रों के विकास के लिए जिम्मेदार हैं, इस पर सरमा ने दावा किया कि भारत का संविधान यही कहता है और विधानसभा में इस संबंध में विधायक मंत्रियों से ऊपर होते हैं. दरअसल असम के कांग्रेस प्रमुख रिपुन बोरा ने शुक्रवार को कहा था कि मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा के हिरासत से भागने या बंदूक छीनकर भागने का प्रयास करने वाले अपराधियों को गोली मार देने वाले बयान के गंभीर नतीजे होंगे और असम ‘पुलिस राज्य’ में बदल जाएगा