Citi bank ग्राहकों के लिए जरूरी जानकारी, जानें अब आपके क्रेडिट कार्ड लिमिट और क्रेडिट रिपोर्ट का क्‍या होगा

 इसी साल अप्रैल महीने में सिटीग्रुप ने भारत समेत 13 देशों से अपने बैंकिंग कारोबार को समेटने का ऐलान किया था. ग्रुप ने यह फैसला अपने वैश्विक बिज़नेस को लेकर खास रणनीति के तहत लिया है. कंपनी अब भारत में अपने कारोबार को बेचने के लिए खरीदार ढूंढ रही है. इसमें कंपनी की क्रेडिट कार्ड ईकाई भी शामिल है. ऐसे में अगर आपके पास भी सिटीबैंक का क्रेडिट कार्ड है तो आपको इसके भविष्‍य को लेकर जरूर चिंता होगी. आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं कि सिटीबैंक के इस फैसले से आपके क्रेडिट कार्ड पर क्‍या असर पड़ेगा.

जानकारों का कहना है कि सिटीबैंक ग्राहक अपने क्रेडिट कार्ड को सरेंडर करने के लिए जल्‍दबाजी ने दिखाएं. सिटी ग्रुप के भारतीय क्रेडिट कार्ड बिज़नेस के नये खरीदार मिलने तक इंतजार करना चाहिए. ऐसी स्थिति में आप तब अपना क्रेडिट बंद कराने के बारे में सोच सकते हैं, जब सिटीबैंक के क्रेडिट कार्ड बिज़नेस खरीदने वाले बैंक का क्रेडिट कार्ड आपके पास पहले से ही मौजूद हो. बहुत कम लोग ही एक साथ दो-दो क्रेडिट कार्ड रखना पंसद करते हैं. हालांकि, अगर आपके पास दूसरा क्रेडिट कार्ड है तो आगे के खर्च के लिए उसी का इस्‍तेमाल करना चाहिए.

क्‍या आपके क्रेडिट कार्ड की वैल्‍यू कम हो जाएगी?

पहले भी ऐसा हुआ है जब नये खरीदार ने पुराने रिवॉर्ड प्‍वाइंट्स की वैल्‍यू को कम कर दिया है. उदाहरण के तौर पर देखें तो पिछले साल भारतीय स्‍टेट बैंक और अन्‍य बैंकों ने मिलकर यस बैंक में निवेश किया था. उन्‍होंने यस बैंक क्रेडिट कार्ड होल्‍डर्स के रिवॉर्ड प्‍वॉइंट की वैल्‍यू 25 पैसे से घटाकर 15 पैसे कर दिया था. इसके अलावा भी यस बैंक क्रेडिट कार्ड पर लाउंज एक्‍सेस और अन्‍य बेनिफिट्स को भी कम कर दिया गया था. ऐसे में इस बात की संभावना है कि नया खरीदार मिलने के बाद सिटीबैंक क्रेडिट कार्ड पर मिलने वाले रिवॉर्ड प्‍वाइंट की वैल्‍यू कम कर दी जाए.

सिटी बैंक क्रेडिट कार्ड के आउटस्‍टैंडिंग को लेकर शिकायत या विवाद का क्‍या करें?

अगर सिटी बैंक से आपको आउटस्टैंडिंग अमाउंट या लेट पेमेंट को लेकर कोई विवाद या शिकायत है तो इसे आपको जल्‍द से जल्‍द निपटा लेना चाहिए. आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपका क्रेडिट हिस्‍ट्री पूरी तरह से साफ है. जब सिटी बैंक अपने भारतीय बिज़नेसे बाहर निकल जाएगा, उसके बाद आपकी शिकायत का समाधान मुश्किल हो सकता है. इसमें ज्‍यादा समय भी लगेगा. इससे आपके क्रेडिट रिपोर्ट पर भी असर पड़ सकता है.

क्‍या स‍िटी बैंक बैंक के भारत छोड़ने से आपके क्रेडिट स्‍कोर पर कोई असर पड़ेगा?

नहीं, सिटी बैंक के भारतीय कारोबार से निकलने से आपके क्रेडिट रिपोर्ट पर कोई असर नहीं पड़ेगा. अगर आप किसी दूसरे बैंक का क्रेडिट कार्ड लेते हैं या अध्रिगण करने वाले बैंक को अपना क्रेडिट कार्ड ट्रांसफर कराते हैं तो आपका क्रेडिट रिपोर्ट भी आपके साथ जाएगा.

किस आधार पर यह फैसला लें कि आपको सिटी बैंक क्रेडिट कार्ड के साथ बने रहना चाहिए या इसे बंद करना देना चाहिए?

सिटी क्रेडिट कार्ड का रिवॉर्ड प्‍वॉइंट एक्‍सपायर नहीं होता है. लेकिन इसे अधिग्रहण करने वाला बैंक आपके कार्ड की एक्‍सपायरी डेट तय कर सकता है. यह आपके क्रेडिट कार्ड के प्रकार पर निर्भर करता है. अधिग्रहण करने वाले बैंक के बारे में जानें, उनके क्रेडिट कार्ड्स सेग्‍मेंट के परफॉर्मेंस के बारे में पता करें और फिर इसके बाद फैसला करें कि आपको इस क्रेडिट कार्ड के साथ बने रहना चाहिए या बंद करान देना चाहिए.

क्‍या आपका क्रेडिट लिम‍िट कम हो सकता है?

स‍िटी बैंक के दो प्रीमियम क्रेडिट कार्ड हैं, जिसपर सबसे ज्‍यादा क्रेडिट लिमिट मिलती है. ये कार्ड्स Citi Prestige और Citi Premiermiles है. अधिग्रहण करने वाला बैंक 6 महीने से लेकर 1 साल तक ग्राहकों का क्रेडिट परफॉर्मेंस का मूल्‍यांकन करने के बाद क्रेडिट लिमिट को 10-20 फीसदी तक घटा सकता है. अगर आपने कोई डिफॉल्‍ट नहीं किया है और समय में बकाये का पेमेंट किया है तो आपकी लिमिट को रिवाइज भी किया जा सकता है. लेकिन अगर आप क्रेडिट रिपोर्ट खराब है तो इस बात की भी संभावना है कि आपके क्रेडिट लिमिट को घटा दिया जाए.