Amul Franchisee Registraion: इस तरह शुरू करें अमूल के साथ बिजनेस, केवल दूध बेच कर सकते हैं इतनी कमाई

 Amul Franchisee registration : फ्रेंचाइजी सीरीज के तहत आज आपको अमूल डेयरी की फ्रेंचाइजी कैसे लें, उसके बारे में बताने जा रहे हैं. अमूल एक ऐसा डेयरी ब्रांड है जिसकी पहुंच घर-घर तक है. इसके दर्जनों प्रोडक्ट हैं और बिजनेस मॉडल के लिहाज से यह एक ऐसा सेक्टर है जहां मांग हमेशा बनी रहती है. इसमें इन्वेस्टमेंट काफी कम है और पहले दिन से आपकी कमाई भी शुरू हो जाती है.

अमूल की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, दूध के अलावा ब्रेड, चीज, चीज साउस, पनीस, वेबरेज, दही, आइस क्रीम, घी, मिल्क पाउडर, चॉकलेट, फ्रेश क्रीम, मिठाई, हैप्पी ट्रीट, अमूल PRO, बेकरी प्रोडक्टस जैसे दर्जनों प्रोडक्ट उपलब्ध हैं. जब आप इसकी वेबसाइट पर जाते हैं तो कंपनी बड़े-बड़े अक्षरों में लोगों को आगाह करती है. इसमें साफ कहा गया है कि अगर आप इसकी फ्रेंचाइजी चाहते हैं तो या मेल करें या फिर 022-68526666 नंबर पर कॉल करें. यह ऑफिशियल कस्टमर केयर नंबर है.

सुबह 10 से शाम के 6 बजे तक करें कॉल

इस नंबर पर सुबह के 10 बजे से शाम के 6 बजे तक सोमवार से शनिवार तक कॉल किया जा सकता है. कंपनी फ्रेंचाइजी देने के लिए 25 हजार रुपए का रिफंडेबल सिक्यॉरिटी फीस भी लेती है. यह पेमेंट चेक या ड्रॉफ्ट की मदद से करना है. कंपनी बार-बार यह रिक्वेस्ट कर रही है कि कई फेक वेबसाइट अमूल के नाम पर लोगों को ठग रहे हैं इसलिए ऑनलाइन ट्रांसफर नहीं करें. यहां हर प्रक्रिया के लिए कस्टमर केयर पर फोन करने की अपील की जा रही है.

25 हजार रुपए रिफंडेबल सिक्यॉरिटी फीस

अमूल की फ्रेंचाइजी मुख्य रूप से दो तरह की होती है. पहला प्रेफर्ड आउटलेट होता है जिसे रेलवे पार्लर या कियॉस्क भी कहते हैं. इस पॉर्लर को खोलने के लिए 100-150 स्क्वॉयर फुट एरिया की जरूरत होती है. 25 हजार रिफंडेबल सिक्यॉरिटी डिपॉजिट होता है. इसके अलावा फर्नीचर और वर्किंग कैपिटल के रूप में अधिकतम 2 लाख लगेंगे. फ्रीजर जैसे कुछ इक्विपमेंट्स भी खरीदने की जरूरत होती है. इसके बाद दुकान की शुरुआत की जा सकती है. हर पाउच मिल्क पर 2.5 फीसदी का मार्जिन मिलता है. चीज, बटर, लस्सी, घी, क्रीम जैसे प्रोडक्ट्स पर 10 फीसदी का मार्जिन मिलता है. आइसक्रीम जैसे प्रोडक्ट पर 20 फीसदी का मार्जिन मिलता है.

स्कूपिंग पार्लर के लिए चाहिए ज्यादा निवेश

अमूल का दूसरा फ्रेंचाइजी मॉडल ज्यादा निवेश वाला होता है. इसे अमूल आइसक्रीम स्कूपिंग पार्लर कहते हैं. इसके लिए मिनिमम एरिया भी 300-350 स्क्वॉयर फुट का होना जरूरी है. सिक्यॉरिटी फीस के रूप में 50 हजार जमा करना होता है जो रिफंडेबल होता है. यह पार्लर खोलने के लिए 5-6 लाख का मिनिमम इन्वेस्टमेंट होता है.

50 फीसदी तक मिलता है मार्जिन

कमाई की बात करें तो रेसिपी बेस्ड आइसक्रीम , मिल्क शेक, बेक्ड आइटम जैसे पिज्जा, बर्गर , सैंडविच पर 50 फीसदी तक मार्जिन मिलता है. सेल्स टार्गेट अचीव करने पर कंपनी की तरफ से स्पेशल इंसेंटिव का फायदा अलग से मिलता है. कुल मिलाकर अगर कोई अमूल फ्रेंचाइजी या आउटलेट खोलता है तो कमाई इस बात पर निर्भर करता है कि बिक्री कितनी है. अगर स्पेस अपना है तो किराया नहीं लगेगा. बिक्री ज्यादा होगी तो कमाई भी ज्यादा होगी. सबसे कम मार्जन दूध के पैकेट पर होता है. एक पैकेट टोन्ड दूध की कीमत 49 रुपए है. ऐसे में एक पैकेट दूध बिक्री पर उसकी कमाई 1.25 रुपए के करीब होती है.