पेगासस जासूसी मामला: अनिल अंबानी के फोन नंबर हैक होने की आशंका, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

 पहले से ही मुश्किलों और कर्ज से जूझ रहे देश के दिग्गज कारोबारी अनिल अंबानी की मुसीबतें और बढ़ सकती है. दरअसल अब पेगासस जासूसी मामले में उद्योगपति अनिल अंबानी के साथ एडीए समूह के एक वरिष्ठ अधिकारी का फोन भी कथित रूप से हैक किए जाने की आशंका जताई गई है. इस लिस्ट में कुछ और नामों की सूची जारी की गई, जिसमें अनिल अंबानी का भी नाम है.

समाचार पोर्टल द वायर ने खबर दी है कि जिस फोन नंबरों का अनिल अंबानी और रिलायंस अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (एडीएजी) के एक अन्य अधिकारी ने उपयोग किया, वे नवंबर उस लीक सूची में शामिल है, जिसका विश्लेषण पेगासस परियोजना समूह के मीडिया भागीदारों ने किया था.

कॉरपोरेट संचार प्रमुख की पत्नी का भी नाम

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘अनिल अंबानी के अलावा, कंपनी के अन्य अधिकारी जिनके फोन नंबर सूची में शामिल हैं, उनमें कॉरपोरेट संचार प्रमुख टोनी जेसुदासन के साथ उनकी पत्नी भी शामिल हैं. इसमें यह भी कहा गया है कि यह पुष्टि नहीं की जा सकती कि अनिल अंबानी वर्तमान में उस फोन नंबर का उपयोग कर रहे हैं या नहीं. इस बारे में फिलहाल एडीएजी से रिपोर्ट के बारे में प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

क्या कहती है रिपोर्ट

रिपोर्ट के अनुसार भारत में दसॉ एविएशन के प्रतिनिधि वेंकट राव पोसिना, साब इंडिया के पूर्व प्रमुख इंद्रजीत सियाल और बोइंग इंडिया के प्रमुख प्रत्यूष कुमार के नंबर भी 2018 और 2019 में विभिन्न अवधि में लीक आंकड़े में शामिल हैं. फ्रांस की कंपनी एनर्जी ईडीएफ के प्रमुख हरमनजीत नेगी का फोन नंबर भी लीक आंकड़े में शामिल है. वह इस अवधि के दौरान फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रां की भारत यात्रा के दौरान आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे.

इनके हैक हुए थे नंबर

दरअसल पिछले रविवार को एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया समूह ने खुलासा किया कि केवल सरकारी एजेंसियों को ही बेचे जाने वाले इजराइल के जासूसी साफ्टवेयर के जरिए भारत के दो केन्द्रीय मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं और एक न्यायाधीश सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हैक किये जाने की संभावना है.