‘बड़े भइया’ से वनडे कैप के साथ मिला ढेर सारा आशीर्वाद, आज श्रीलंका पर गाज गिराएगा 21 साल का ये गेंदबाज

 एक खिलाड़ी के लिए इससे बड़ा लम्हा भला और क्या होगा कि उसे वनडे कैप उसके ही अपने बड़े भाई से मिली हो. वो भाई जिसके साथ खेलकर उसका बचपन बीता हो. उसकी क्रिकेट जवान हुई हो. कुछ ऐसा ही हुआ राहुल चाहर के साथ भी. टीम इंडिया ने श्रीलंका के खिलाफ जिन 5 नए खिलाड़ियों को डेब्यू का चांस दिया, उनमें एक राहुल चाहर (Rahul Chahar) भी रहे. राहुल चाहर के लिए वनडे डेब्यू का मौका और भी खास इसलिए हो गया क्योंकि उन्हें कैप उनके बड़े भाई दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने पहनाई.

दीपक चाहर श्रीलंका के खिलाफ दूसरे वनडे में भारत की जीत के हीरो रहे थे. तीसरे वनडे में वो नहीं खेल रहे. ऐसे में चांस मिला उनके छोटे भाई को डेब्यू का. राहुल चाहर इससे पहले भारत के लिए 3 T20 मुकाबले खेल चुके है. उन्हें इसी साल इंग्लैंड के खिलाफ भारत की टेस्ट टीम में भी शामिल किया गया था, पर डेब्यू का मौका नहीं मिला. इसके बाद राहुल का चयन अपने भाई दीपक चाहर के साथ श्रीलंका दौरे की टीम में हुआ, जहां उन्हें वनडे डेब्यू का मौका मिला.

ऐसे शुरू हुआ क्रिकेट का सिलसिला

दीपक चाहर और राहुल चाहर दोनों भाइयों ने क्रिकेट का ककहरा अपने चाचा से सीखा. राहुल में क्रिकेट का जुनून अपने बड़े भाई दीपक को खेलते देखकर ही जागा था. ऱाहुल 8 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलने लगे थे. राहुल शुरू शुरू में तेज गेंदबाज बनना चाहते थे लेकिन फिर उन्हें एहसास हो चला कि उनकी असली ताकत स्पिन है. और वो स्पिनर बन गए. उन्होंने अपना रणजी डेब्यू राजस्थान के लिए 2016-17 में किया जबकि लिस्ट ए में डेब्यू राहुल ने साल 2017 में किया. साल 2017 में ही उनकी IPL में एंट्री हुई. पहले वो राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स टीम का हिस्सा बने. इसके बाद मुंबई इंडियंस में शामिल हुए.

राहुल चाहर ने वनडे डेब्यू भले ही 2021 में आकर किया है. पर उनका इंटरनेशनल डेब्यू 2 साल पहले ही यानी साल 2019 में ही हो चुका था. उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ T20 सीरीज से डेब्यू किया था. आज अपना पहला वनडे खेल रहे राहुल भारत के लिए अब तक 3 T20 खेल चुके हैं, जिनमें उन्होंने 3 विकेट लिए हैं.