Rajasthan News: आकाशीय बिजली का कहर, 9 बच्चों समेत 22 लोगों की मौत, मचा हाहाकार

 जयपुर. राजस्थान में रविवार को प्रकृति का कहर टूटा. लंबे समय से मानसून (Monsoon) की बेरुखी के बाद मौसम बदला और राजधानी जयपुर समेत कई जिलों में जोरदार बारिश हुई, लेकिन इस दौरान अलग-अलग जगहों पर आकाशीय बिजली (Lightning) गिरने से 9 बच्चों समेत 22 लोगों की मौत (Death) हो गई. इनमें सर्वाधिक 11 मौतें जयपुर में हुईं. कोटा में 4 और धौलपुर में 3 बच्चों की मौत हो गई. इसके अलावा अलग-अलग जिलों में भी तीन लोग आकाशीय बिजली की चपेट में आने से अपनी जान गंवा बैठे. इस दौरान जयपुर में सर्वाधिक 69 मिलीमीटर बारिश (Rain) दर्ज की गई है.


भीषण गर्मी में झुलस रहे राजस्थान में रविवार को दोपहर बाद मौसम ने पलटा खाया. उसके बाद अलग-अलग जिलों में कहीं हल्की तो कहीं जोरदार बारिश का दौर शुरू हो गया. जयपुर में शाम करीब 6.15 बजे बारिश शुरू हो गई. उसके बाद इसकी गति तूफानी हो गई. बारिश के दौरान आमेर महल के सामने स्थित वॉच टावर पर दो बार बिजली गिरी. इससे वहां घूमने गए लोगों में से करीब डेढ़ दर्जन इसकी चपेट में आ गए. उनमें से 11 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई. मौके पर पहुंची आपदा राहत की टीमों और पुलिस ने घायलों को तत्काल सवाई मानसिंह अस्पताल पहुंचाया.


कोटा, धौलपुर और सवाई माधोपुर में भी मौतें
इससे पहले कोटा जिले के कनवास इलाके के गरडा गांव में बकरियां चराने गए बच्चों पर बिजली गिरने से 4 बच्चों की मौत हो गई. एक ही गांव के चार बच्चों की एक साथ मौत से वहां मातम पसर गया. धौलपुर जिले के कूदिन्ना गांव में आकाशीय बिजली गिरने से तीन मासूम बच्चों की मौत हो गई. ये बच्चे भी बकरियां चराने गए हुए थे. सवाई माधोपुर के दौलतपुर गांव में आकाशीय बिजली गिरने से एक युवक की मौत हो गई. इसके अलावा अलग-अलग जगहों पर बिजली गिरने से तीन अन्य और लोगों की मौत हो गई. सीएम अशोक गहलोत सरकार मृतकों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं. राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को मुआवजा राशि देने की घोषणा की है.