IND vs SL: हार्दिक पंड्या को श्रीलंकाई दिग्गज ने बताया स्पेशल खिलाड़ी, टीम इंडिया को दी खास नसीहत

 नई दिल्ली. हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) का श्रीलंका के खिलाफ तीन वनडे की सीरीज ( IND vs SL ODI Series) में प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा. उन्होंने तीन मैच में 19 रन बनाने के साथ दो विकेट ही हासिल किए थे. उनके प्रदर्शन को लेकर भले ही सवाल खड़े हो रहे हैं. लेकिन श्रीलंका के पूर्व ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan ) ने पंड्या का बचाव किया है. उन्होंने कहा कि पंड्या स्पेशल खिलाड़ी हैं और अगर मैं भारतीय टीम का कप्तान होता, तो वो हमेशा प्लेइंग-11 का हिस्सा बनते.


मुरलीधरन ने ईएसपीएन क्रिकइंफो से कहा कि हार्दिक ने हाल ही में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी की और इसी वजह से वो गेंदबाजी में अपना 100 फीसदी नहीं दे पा रहे हैं. हार्दिक भारतीय टीम के लिए गेंद और बल्ले से विविधता लाते हैं और यही उनकी सबसे बड़ी ताकत और टीम की पूंजी है. उन्होंने कहा कि अगर मैं टीम का कप्तान होता, तो फिर दुनिया की किसी भी टीम में उन्हें रखता. फिर चाहें वो आईपीएल या ऑस्ट्रेलियाई टीम ही क्यों न होती.


नीतीश या सूर्यकुमार जैसी बल्लेबाजी नहीं कर सकते हार्दिक: मुरलीधरन
इस पूर्व ऑफ स्पिनर ने आगे कहा कि हार्दिक 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकने के साथ स्लो बॉल भी डालना जानते हैं. लेकिन चोट के कारण वो बहुत ज्यादा कुछ कर नहीं पा रहे हैं. दूसरा उनकी बल्लेबाजी भी बहुत खास है. लेकिन हम उनसे नीतीश राणा या सूर्यकुमार यादव(Suryakumar Yadav) जैसी बल्लेबाजी की अपेक्षा नहीं कर सकते हैं कि वो लंबे वक्त तक क्रीज पर टिके रहें और टीम के लिए रन बनाएं. लंबे समय तक टिके रहें और रन बनाएं. वो छोटी अवधि के बल्लेबाज हैं, जो जरूरत पड़ने पर आपके लिए 40 गेंद में शतक ठोक सकता है. अगर मैं कप्तान रहता तो उनसे यही अपेक्षा करता.

‘हार्दिक को उनका स्वभाविक खेल खेलने देना चाहिए’
उन्होंने आगे कहा कि हार्दिक ऐसे बल्लेबाज हैं कि वो पहले दो ओवर में भी आउट हो सकते हैं, लेकिन अगर वो 20-30 गेंदों तक रूक जाते हैं, तो फिर 50 रन बनाना उनके लिए मुश्किल नहीं है. हमें हार्दिक से यही उम्मीद करनी चाहिए. अगर आप उनसे 70 गेंद पर 90 रन की उम्मीद करते हैं, तो यह उनके साथ नाइंसाफी होगी. यह ठीक वैसा ही होगा कि आप सनथ जयसूर्या से पारी की शुरुआत कराएं और यह उम्मीद करें कि वो हर गेंद पर रन बनाएं. यह तरीका सफल नहीं होगा. हार्दिक को उनका स्वभाविक खेल खेलने देना चाहिए.

मुरलीधरन ने पंड्या की भूमिका की सराहना करते हुए बताया कि कैसे टीम इंडिया को उनसे अपने अन्य शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों की तरह बड़ी पारी खेलने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए. पूर्व ऑफ स्पिनर का मानना ​​है कि हार्दिक के लिए आदर्श भूमिका निचले क्रम में आकर बड़े शॉट्स खेलने वाले खिलाड़ी के रूप में होनी चाहिए.