गेल, सहवाग, डिविलियर्स सब भूल जाएंगे, इस धुरंधर ने एक मैच की दोनों पारियों में लंच से पहले ठोक डाले शतक

 क्रिकेट इतिहास के विस्‍फोटक बल्‍लेबाजों की सूची क्रिस गेल, डेविड वॉर्नर, वीरेंद्र सहवाग और एबी डिविलियर्स जैसे खिलाडि़यों के बिना मुकम्‍मल नहीं हो सकती. ये वो खिलाड़ी हैं जिन्‍होंने अपने विध्‍वंसक अंदाज से दुनियाभर के गेंदबाजों में खौफ भर दिया. लेकिन सहवाग जैसा खिलाड़ी भी अपने पूरे करियर में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में लंच से पहले कभी शतक पूरा नहीं कर सका. जिस खिलाड़ी के बारे में हम बात कर हैं, उसने न केवल एक बार बल्कि दो बार लंच से पहले ही शतक ठोकने का कारनामा अंजाम दिया है. उसके आक्रामक अंदाज को समझने के लिए इतना ही काफी है कि उसने ये मुकाम एक ही मैच की दोनों पारियों में हासिल किया है.

दरअसल, गिलबर्ट जेसप (Gilbert Jessop) को यूं ही क्रिकेट इतिहास का सबसे विस्‍फोटक बल्‍लेबाज कहा जाता है. उन्‍होंने आज ही के दिन 25 जुलाई 1900 में इंग्‍लैंड की जमीन पर काउंटी चैंपियनशिप में ग्‍लूसेस्‍टरशर के लिए खेलते हुए मैच की दोनों पारियों में लंच से पहले शतक ठोक दिए. ये कारनामा यॉर्कशर के खिलाफ किया गया और वो भी जॉर्ज हर्स्‍ट व विल्‍फ्रेड रोड्स जैसे गेंदबाजी आक्रमण के सामने. इंग्‍लैंड के इस दिग्‍गज ने अपने प्रथम श्रेणी करियर में जो 53 शतक लगाए हैं, उनमें उनका औसत प्रतिघंटे 82.7 रन का रहा है. मतलब ये कि प्रतिघंटे 100 रन की बात करें तो गिलबर्ट ने हर बार करीब 71 मिनट पर सैकड़ा जड़ा है. यानी उन्‍होंने अपने 53 प्रथम श्रेणी शतक पूरे करने के लिए सिर्फ 62 घंटे का वक्‍त लिया.

26 हजार रन और 873 विकेट

गिलबर्ट जेसप की आक्रामक पारियों को समझना हो तो जरा इन आंकड़ों पर गौर कीजिए. होव में 1903 में खेले गए एक मैच में उन्‍होंने ससेक्‍स के खिलाफ करीब ढाई घंटे में ही 286 रन ठोक दिए थे. साल 1900 में वेस्‍टइंडीज के खिलाफ उन्‍होंने सिर्फ एक घंटे में 157 रन जड़ दिए. जेसप ने इंग्‍लैंड के लिए 18 टेस्‍ट मैच खेले. इनमें उन्‍होंने 21.88 के औसत से 569 रन बनाए. एक शतक और 3 अर्धशतक टेस्‍ट क्रिकेट में उन्‍होंने अपने नाम किए. इन 18 टेस्‍ट में उन्‍होंने 10 विकेट भी चटकाए. इसके अलावा 493 प्रथम श्रेणी मैचों में जेसप के बल्‍ले से 32.63 के औसत से 26698 रन निकले. उन्‍होंने 53 शतकों और 127 अर्धशतकों की मदद से ये रन बनाए. 463 कैच भी उन्‍होंने लिए. प्रथम श्रेणी क्रिकेट में जेसप ने गेंदबाजी में भी हाथ दिखाए और अपने करियर में 873 बल्‍लेबाजों को पवेलियन भेजकर दम लिया.