Union Bank Of India की खास स्कीम से लोन लेने वालों के लिए अच्छा मौका, आसानी से बढ़ेगी क्रेडिट लाइन

 भारत सरकार ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों के लिए इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम शुरू की थी और हाल ही में केंद्र सरकार की ओर से इसका विस्तार किया गया था. इसी स्कीम के अंतर्गत यूनियन बैंक ऑफ इंडिया भी व्यापारियों को इस स्कीम का फायदा उठाने का अवसर दिया है. बैंक ने भी डिट गारंटी स्कीम के अंतर्गत यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा यूनियन गारंटीड इमरजेंसी क्रेडिट लाइन योजना लांच की है, जिसका फायदा कई व्यापारी उठा सकते हैं. साथ ही अपने बिजनेस को बूस्ट कर सकते हैं.

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट के जरिए इसकी जानकारी दी है. ऐसे में अगर आप भी यूबीआई के साथ लोन है तो आप क्रेडिट लाइन बढ़ाकर इसका फायदा ले सकते हैं. ऐसे में जानते हैं यूबीआई की ओर से की गई पहल में किन-किन ग्राहकों को फायदा मिल सकता है…

किन लोगों को मिलेगा इसका फायदा?

इसका फायदा उन सभी व्यापारियों को मिलने वाला है, जिन्होंने 50 करोड़ रुपये तक का लोन लिया हुआ है या फिर जिन व्यापारियों की फर्म का 250 करोड़ रुपये तक टर्नओवर है. साथ ही इसमें व्यक्तिगत, पार्टनरशिप, रजिस्टर्ड कंपनी, ट्रस्ट आदि को फायदा मिलेगा. इस स्कीम में ग्राहकों की क्रेडिट लिमिट को बढ़ा दिया जाएगा.

ऐसे करना होगा भुगतान?

जिन लोगों ने ECLGS 1.0 के अंतर्गत लोन लिया है, उन्हें चार साल की बजाय अब लोन चुकाने के लिए पांच साल का समय मिलेगा. इस लोन का ब्याज केवल 24 महीने तक चुकाना होगा. उसके बाद के 36 महीनों में लोन का प्रिंसिपल और इंट्रेस्ट चुकाना होगा. साथ ही मंत्रालय हाल ही में इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम 4.0 की शर्ते जारी की गई थी, जिसमें लोन आउटस्टैंडिंग की 500 करोड़ रुपये की मौजूदा सीमा भी हटा दी गई है. यानी अभी तक बार इस पर गाइडलाइंस जारी की जा चुकी है.

कैसे मिलेगा फायदा?

ऐसे में बैंक ग्राहकों को अपने नजदीकी बैंक ब्रांच में संपर्क करना होगा, जहां आप अपने लोन की क्रेडिट लिमिट में इजाफा करवा सकते हैं. यूबीआई के अनुसार, 100 फीसदी गारंटी कवरेज का फायदा भी दिया जा रहा है और इसके लिए कोई भी गारंटी और प्रोसेसिंग फीस भी ग्राहकों से नहीं ली जाएगी.

आपको बता दें कि ECLGS की वैद्यता को 30 सितंबर, 2021 तक या तीन लाख करोड़ रुपये की राशि के लिए गारंटी जारी होने तक बढ़ा दिया गया है. वितरण की अनुमति 31 दिसंबर, 2021 तक है.