SBI बार-बार क्यों जारी करता है ये 4 अलर्ट, अगर आपका भी है खाता तो जरूर पढ़ें

 स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अपने ग्राहकों बेहतर सर्विस देने के साथ ही ग्राहकों को अलर्ट भी करता है, जिससे कोई भी ग्राहक साइबर क्राइम का शिकार ना हो. साइबर क्राइम से बचने के लिए एसबीआई लगातार ट्वीटर के जरिए बताता है कि लोगों को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए. इसके साथ ही ग्राहक को बैंक कर्मचारियों की शिकायत करने के बारे में भी लगातार बताता रहता है कि आप किस तरह से शिकायत की जा सकती है.

ऐसे में आज जानते हैं बैंक की ओर से शेयर की जाने वाली उन जानकारियों के बारे में जो बैंक अक्सर ग्राहकों के लिए शेयर करता है. ये 4 अलर्ट बैंक नियमित तौर पर जारी करता है और ट्विटर के जरिए शिकायत करने वाले लोगों को भी इसकी जानकारी देता है. ऐसे में आपको भी इन नियमों और टिप्स का ध्यान रखना चाहिए.

सोशल मीडिया पर क्या शेयर ना करें?
अक्सर लोग सोशल मीडिया के जरिए बैंक से शिकायत करते हैं और शिकायत करते वक्त अपनी निजी जानकारी भी सोशल मीडिया पर शेयर कर देते हैं. ऐसे में बैंक का कहना है, ‘ कृपया सुरक्षा कारणों से अपनी बैंकिंग और व्यक्तिगत जानकारी यहां सार्वजनिक रूप से साझा न करें. इससे हुई क्षति के लिए बैंक उत्तरदायी नहीं होगा. हमारा सुझाव है कि इस पोस्ट को तुरंत हटा दें. यह अधिक उचित होगा कि आप हमसे DM द्वारा संपर्क करें.

 

बैंक कर्मचारी की कैसे शिकायत करें?

अक्सर होता है कि ग्राहक बैंक कर्मचारियों के व्यवहार से खुश नहीं होते हैं. ऐसे में बैंक का कहना है, ‘प्रिय ग्राहक, आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद है. कृपया अपनी शिकायत https://crcf.sbi.co.in/ccf/ पर Existing Customer MSME/ Agri/ Other Grievance under >> General Banking >> Branch Related कैटेगरी के अंतर्गत दर्ज कराएं. इस संबंध में उचित कार्यवाही की जाएगी.

किसी को भी निजी जानकारी शेयर ना करें

बढ़ते साइबर क्राइम को देखते हुए और ग्राहकों को मिल रहे फेक मैसेज की वजह से बैंक लगातार ग्राहकों को सतर्क करता रहता है. बैंक का कहना है, ‘हम हमेशा अपने ग्राहकों को सलाह देते हैं कि वे ऐसे ईमेल/पाठ संदेश/कॉल/एम्बेडेड लिंक का जवाब न दें, जो उनसे अपने व्यक्तिगत या बैंकिंग विवरण जैसे यूजर आईडी/पासवर्ड/डेबिट कार्ड नंबर/पिन/सीवीवी/ओटीपी आदि को सत्यापित/अपडेट करने के लिए कहते हैं. इस फ़िशिंग/स्मिशिंग/विशिंग) प्रयास/घटना पर तत्काल कार्रवाई करने के लिए, कृपया इस जानकारी को ईमेल के माध्यम से report.phishing@sbi.co.in पर साझा करें. साथ ही, अपने क्षेत्र से संबंधित कानून प्रवर्तन एजेंसी को घटना की रिपोर्ट करें.’

गलत खाते में पैसे ट्रांसफर हो जाए तो क्या करें

जब भी आप ऑनलाइन बैंकिंग करते हैं तो कई बार आप गलत बेनिफिशयर के खाते में पैसे ट्रांसफर कर देते हैं. ऐसी स्थिति में बैंक का कहना है, ‘ग्राहकों से अनुरोध है कि कोई भी डिजिटल ट्रांसफर करने से पहले बेनिफिशयरी की अकाउंट डिटेल वेरिफाई करें. साथ ही ध्यान रखें कि ग्राहक की ओर से किए गए गलत ट्रांजेक्शन के लिए बैंक जिम्मेदार नहीं होगा. हालांकि, ग्राहक की होम ब्रांच बिना किसी जिम्मेदारी के अन्य बैंक के साथ फॉलो अप ले सकती है. इस संबंध में अधिक सहायता के लिए कृपया अपनी होम ब्रांच और या बेनेफिशयरी के बैंक से संपर्क कर सकते हैं.’