एयरटेल ग्राहक ये मोबाइल नंबर पहचान लें, भूल कर भी न करें फोन, मिनटों में खाली हो जाएगा खाता

 आजकल फर्जीवाड़े की कई नई तरकीब सामने आ रही है. इसका सबसे बड़ा असर मोबाइल फोन और उसमें डाउनलोड ऐप पर देखा जा रहा है. इन ऐप से कई तरह की ठगी होती है. बैंकिंग ऐप मोबाइल में है तो उस पर भी ठगी गिरोह अपना हाथ साफ कर रहे हैं. हालांकि यह तभी होगा जब आप किसी अनजान फोन कॉल पर अपनी बैंकिंग की जानकारी देंगे. किसी संदिग्ध लिंक पर क्लिक करेंगे या किसी अनजान व्यक्ति को अपना मोबाइल या लैपटॉप टीम व्यूअर पर देंगे. कुछ इसी तरह का मैसेज आजकल एयरटेल के ग्राहकों को आ रहे हैं.

जिन लोगों के पास एयरटेल का सिम कार्ड है, उनके मोबाइल नंबर पर 9114204378 से एक मैसेज आता है. इसमें लिखा होता है कि डियर एयरटेल यूजर, आज आपका सिम बंद हो जाएगा. कृपया अपना सिम कार्ड अपडेट करें. इसके लिए फौरन हमें 8582845285 नंबर पर फोन करें. आपका सिम कुछ देर बाद ब्लॉक कर दिया जाएगा.

फर्जीवाड़े का नया तरिका

मोबाइल आजकल हमारे लिए हाथ-पैर सबकुछ है. इसके बिना कई काम रुक सकते हैं. यहां तक कि बैंक से जुड़े काम भी अब मोबाइल पर होने लगे हैं. ऐसे में किसी ग्राहक को ऐसा डरावना मैसेज आए तो वह क्या करेगा? जाहिर सी बात है कि मैसेज में बताए गए नंबर पर फोन करेगा. यही फोन कॉल पहला प्रयास होता है जब आप किसी फर्जीवाड़ा गिरोह की साजिश में फंसते हैं. इसके बाद फ्रॉड करने वाले लोग आपको तरह-तरह के प्रलोभन या डर-भय दिखाकर अपना काम बनाते हैं. अंत में नतीजा यह होता है कि आपके मोबाइल पर मैसेज आता है कि बैंक खाते से इतने रुपये डेबिट हो गए. आपको पता भी नहीं चलता और आपकी गाढ़ी कमाई किसी और की जेब में चली जाती है.

क्विक सपोर्ट डाउनलोड

इस तरह के फोन और मैसेज कई लोगों को आ रहे हैं. टि्वटर पर एक ग्राहक ने अपने साथ हुई वारदात का जिक्र किया है. निखिल मेहरा नाम के यूजर बताते हैं, मुझे भी इस तरह का मैसेज मिला है. अगर किसी को ऐसा मैसेज आता है तो उसे नजरंदाज किया जाना चाहिए. मुझे भी मैसेज आया जिसमें टीम व्यूअर का क्विक सपोर्ट डाउनलोड करने के लिए कहा गया. मैसेज में लिखा था कि इसे प्ले स्टोर से डाउनलोड कर लें और उसका पिन बता दें. अगर मैं ऐसा करता तो उस ऐप से मेरे फोन का कंट्रोल उनके पास चला जाता. मैंने ऐसा नहीं किया क्योंकि यह एक तरह का स्कैम है.

पिन-सीवीवी से धोखाधड़ी

ऐसा फर्जीवाड़ा थोड़ा हाईटेक है जिसमें पढ़े-लिखे लोगों को शिकार बनाया जाता है. गांवों में अब भी उसी तरह से ठगी हो रही है जैसे पहले होती थी. फ्रॉड करने वाले लोग मोबाइल पर फोन करते हैं. बोलते हैं कि आपका बैंक अकाउंट बंद होने वाला है क्योंकि आपने केवाईसी नहीं कराया है. अगर बैंक खाता चालू रखना चाहते हैं तो मैसेज में भेजे गए लिंक पर क्लिक करें. बात-बात में फोन करने वाला व्यक्ति आपसे एटीएम का पिन या सीवीवी भी पूछ सकता है. इसके बाद जो होगा, उसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते. एटीएम कार्ड आपके पास ही रहेगा और खाते से पैसा निकल जाएगा. इसलिए किसी भी संदिग्ध लिंक पर केवाईसी के बाबत भूल कर भी क्लिक न करें. बैंक इस तरह की जानकारी कभी नहीं मांगता. अब तो मोबाइल नंबर भी नहीं बताना चाहिए. फर्जीवाड़ा करने वाले आपसे पूछ सकते हैं कि बैंक में कौन सा मोबाइल नंबर रजिस्टर है.

फिंगरप्रिंट की क्लोनिंग

बात यही तक सीमित नहीं है. क्यूआर कोड को कभी सबसे सुरक्षित जरिया माना जाता था. अब उसमें भी फ्रॉड की शिकायतें आ रही हैं. जब तक सोर्स का पता न चल जाए, तब तक पैसे देने के लिए किसी भी क्यूआर कोड को स्कैन न करें. फ्रॉड करने वाले लोग एक कदम और आगे बढ़कर बायोमीट्रिक डेटा के साथ धोखाधड़ी कर रहे हैं. बायोमीट्रिक डेटा में आपकी अंगुलियों के निशान या आईरिस की स्कैनिंग आती है. इन माध्यमों से कोई भी सेवा लेने से पहले एक बार जरूर सोच लें कि सोर्स भरोसेमंद है या नहीं. फिंगरप्रिंट की क्लोनिंग की शिकायतें मिल रही हैं. इससे बड़े पैमाने पर धांधली हो सकती है.