IND vs ENG: पृथ्वी शॉ ओपनिंग के विकल्प, सूर्यकुमार को मिल सकता है इस नंबर पर मौका

 नई दिल्ली. भारत और इंग्लैंड के बीच 4 अगस्त से पांच टेस्ट (IND vs ENG 2021) की सीरीज का आगाज होगा. हालांकि, इससे पहले ही टीम इंडिया को बड़ा झटका लग चुका है. उसके तीन खिलाड़ी शुभमन गिल (Shubhman Gill), आवेश खान (Avesh Khan) और वॉशिंगटन सुंदर (Washington

Sundar) चोट के चलते सीरीज से बाहर हो चुके हैं. चोटिल खिलाड़ियों के रिप्लेसमेंट के तौर पर पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) और सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) इंग्लैंड जाएंगे. फिलहाल, यह दोनों खिलाड़ी श्रीलंका में टी20 सीरीज का हिस्सा हैं.


शुभमन के टेस्ट सीरीज से बाहर होने के बाद रोहित शर्मा का सलामी जोड़ीदार कौन होगा?. इसे लेकर टीम मैनेजमेंट और कप्तान विराट कोहली पसोपेश में जरूर होंगे. क्योंकि मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) और अभिमन्यु ईश्वरन (Abhimanyu Easwaran) पहले से ही बैक-अप ओपनर के तौर पर टीम में हैं. हालांकि, हालिया फॉर्म को देखें, तो पृथ्वी शॉ का दावा ओपनर के तौर पर मजबूत नजर आ रहा है. वो इस वक्त शानदार फॉर्म में हैं. उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज के तीन मैच में 105 रन बनाए.


पृथ्वी को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम से ड्रॉप किया गया था
शॉ को इस साल इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज की टीम से ड्रॉप कर दिया गया था. उन्होंने पिछला टेस्ट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दिसंबर 2020 में खेला था. तब एडिलेड में हुए सीरीज के पहले टेस्ट में मेजबान टीम ने भारत को बुरी तरह हराया था. उस मैच में शॉ ने मयंक अग्रवाल के साथ पारी की शुरुआत की थी. उन्होंने पहली पारी में शून्य और दूसरी में 4 रन बनाए थे. दोनों पारी में वो क्लीन बोल्ड हुए थे. तब सुनील गावस्कर और रिकी पोंटिंग ने उनकी तकनीक में कई खामियां बताई थी. खुद शॉ ने भी स्वीकार किया था कि ऑस्ट्रेलिय़ा सीरीज के तीन टेस्ट के लिए टीम से बाहर किए जाने के बाद वो टूट गए थे.

शॉ ने ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद 1200 से ज्यादा रन बनाए
यह समझा जा सकता है कि टीम प्रबंधन और चयनकर्ता दोनों चाहते थे कि शॉ अपने खेल पर काम करना जारी रखें. खासकर अंदर आती गेंदों के खिलाफ अपनी तकनीक में सुधार लाएं. यही एक कारण था कि उन्हें इंग्लैंड दौरे के लिए चुनी गई टेस्ट टीम में जगह नहीं दी गई थी. हालांकि, शॉ ने बीते कुछ महीनों में अच्छी बल्लेबाजी की है. उन्होंने आईपीएल 2021 के पहले हिस्से में दिल्ली कैपिटल्स के लिए काफी रन बनाए.

उन्होंने अपनी कप्तानी में मुंबई को इस साल विजय हजारे ट्रॉफी का चैम्पियन बनाया. शॉ ने इस टूर्नामेंट की 8 पारियों में रिकॉर्डतोड़ 827 रन बनाए थे. वो अब तक अपने करियर में सिर्फ पांच टेस्ट ही खेले हैं. हालांकि, ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद से लिस्ट-ए क्रिकेट में उन्होंने काफी रन बनाए हैं. उन्होंने 20 पारी में 72.94 के औसत से 1240 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्होंने 4 शतक और पांच अर्धशतक लगाए हैं.

पृथ्वी शॉ को मयंक से मिल सकती है चुनौती
इसी वजह से इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में रोहित के जोड़ीदार के रूप में उनका दावा मजबूत है. हालांकि, उन्हें मयंक अग्रवाल से चुनौती मिल सकती है. मयंक ने काउंटी इलेवन के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में पारी की शुरुआत करते हुए 47 रन बनाए थे. ऐसे में पहले टेस्ट में मयंक भी दूसरे ओपनर का रोल निभा सकते हैं. इसकी एक वजह यह भी है कि शॉ अभी श्रीलंका में टी20 सीरीज खेल रहे हैं और इसका आखिरी मैच 29 जुलाई को है. इसके बाद वो इंग्लैंड जाएंगे. नियमों के तहत उन्हें 10 दिन क्वारंटीन में रहना होगा. ऐसे में वो नॉटिंघम में चार अगस्त से शुरू होने वाले पहले टेस्ट में नहीं खेल पाएंगे.

सूर्यकुमार को इंग्लैंड के खिलाफ पांच नंबर पर मौका मिल सकता है
दूसरी ओर, सूर्यकुमार यादव इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में मध्यक्रम में खेल सकते हैं. सूर्यकुमार ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इसी साल आगाज किया है और अपनी बल्लेबाजी से काफी प्रभावित किया है. श्रीलंका के खिलाफ अपनी पहली ही वनडे सीरीज में वो प्लेयर ऑफ द सीरीज चुने गए. आईपीएल 2020 के बाद से, मध्य क्रम में बल्लेबाजी करने वाले यादव ने 38 पारियों में 38 से ज्यादा के औसत से 1323 रन बनाए हैं, जिसमें एक शतक और 10 अर्धशतक शामिल हैं. उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ पहले टी20 में भी फिफ्टी जड़ी है.

  
सूर्यकुमार का लंबे फॉर्मेट में भी प्रदर्शन अच्छा
ऐसा नहीं है कि सूर्यकुमार सिर्फ व्हाइट बॉल क्रिकेट में भी रन बना रहे हैं या उन्हें सिर्फ सीमित ओवर क्रिकेट के प्रदर्शन के आधार पर ही इंग्लैंड दौरे के लिए चुना गया है. उन्होंने रणजी ट्रॉफी के 2019-20 सीजन में मुंबई की ओर से खेलते हुए 10 पारी में 56 से ज्यादा के औसत से 508 रन बनाए थे. उनके बल्ले से दो शतक और दो अर्धशतक निकले थे.

उन्होंने जो 77 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं. इसमें से 71 रणजी ट्रॉफी के हैं. उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में नंबर-5 पर मौका दिया जा सकता है. हालांकि, हनुमा विहारी और केएल राहुल से उन्हें चुनौती मिल सकती है. राहुल को टीम मैनेजमेंट मध्य क्रम के बल्लेबाज के रूप में ही देख रही है. उन्होंने काउंटी इलेवन के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में नंबर-5 पर बल्लेबाजी करते हुए शतक लगाया था.