IND VS SL, 2nd T20I: श्रीलंका के पास आखिरी मौका, टीम इंडिया के विस्फोटक बल्लेबाज की जगह भी दांव पर!

 नई दिल्ली. श्रीलंका दौरे पर वनडे सीरीज 2-1 से जीतने के बाद अब टीम इंडिया के पास टी20 सीरीज पर भी कब्जा (India vs Sri Lanka, 2nd T20I) करने का बेहतरीन मौका है. मंगलवार को कोलंबो में होने वाले दूसरे टी20 में भारत अगर जीत हासिल करता है तो उसे 3 मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त हासिल हो जाएगी. ऐसे में ये मुकाबला मेजबान श्रीलंका के लिए करो या मरो का है और इसके साथ-साथ एक भारतीय बल्लेबाज की जगह भी इस मैच में दांव पर लगी हुई है. ये खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू सैमसन (Sanju Samson) हैं, जो कि इंटरनेशनल टी20 में खुद को साबित करने में अबतक नाकाम साबित हुए हैं.


श्रीलंका को पहले मुकाबले में 38 रन से हराने के बाद भारत के विजयी संयोजन में बदलाव करने की संभावना नहीं है. टीम प्रबंधन हालांकि अगर ब्रिटेन में टेस्ट दौरे के लिए चुने गए पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) और सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) को आराम देने का फैसला करता है तो टीम में बदलाव हो सकते हैं. हालांकि उम्मीद है कि यह दोनों कम से कम दूसरे टी20 मुकाबले में खेलेंगे और भारत के सीरीज जीतने की स्थिति में उन्हें अंतिम मैच से आराम दिया जा सकता है. योजना में बदलाव होने की स्थिति में खराब फॉर्म से जूझ रहे मनीष पांडे पर देवदत्त पडिक्कल और ऋतुराज गायकवाड़ को तरजीह दी जा सकती है.


संजू सैमसन पर हैं सबकी नजरें
मंगलवार को नजरें सैमसन पर होंगी जिनसे काफी उम्मीदें हैं लेकिन उन्हें जब भी भारतीय जर्सी में खेलने का मौका मिला तो वे इन उम्मीदों पर खरा उतरने में नाकाम रहे. सैमसन को टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी के काफी मौके मिले लेकिन इसके बावजूद वह आठ मैचों में 13.75 की औसत से ही रन बना पाए. सामने आ रहे प्रतिभावान खिलाड़ियों को देखते हुए सैमसन की राह इस प्रदर्शन के साथ आसान नहीं होने वाली. प्रदर्शन के आधार पर ऋषभ पंत ने सैमसन को काफी पीछे छोड़ दिया है जबकि इशान किशन ने भी सीमित मौके मिलने पर प्रभावी प्रदर्शन किया है.
सीमित ओवरों के क्रिकेट में लोकेश राहुल भी विकेटकीपर के रूप में विकल्प हैं और ऐसे में सैमसन के पास अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने के लिए ज्यादा समय नहीं है. राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के निदेशक राहुल द्रविड़ को भी सैमसन से काफी उम्मीदें हैं और अगर वह अगले दो मैचों में बड़ा स्कोर बनाने में विफल रहते हैं तो यह सीरीज उनके लिए अंतिम मौका साबित हो सकती है.

पंड्या की फॉर्म चिंता का विषय
टीम के लिए हार्दिक पंड्या की बल्लेबाजी फॉर्म भी चिंता का विषय है जो श्रीलंका के खिलाफ अब तक प्रभावित करने में नाकाम रहे हैं. उन्होंने ठीक-ठाक गेंदबाजी की है लेकिन वह पीठ की सर्जरी से पहले की तरह गेंदबाजी करने में नाकाम रहे हैं. भारतीय गेंदबाजों ने पहले मैच में शानदार प्रदर्शन किया. युजवेंद्र चहल और वरूण चक्रवर्ती एक बार फिर प्रभावित करने की कोशिश करेंगे. ये दोनों टीम में कलाई के स्पिनर के स्थान के लिए चुनौती पेश कर रहे हैं. यूएई में होने वाले टी20 विश्व कप के लिए 20 से अधिक खिलाड़ियों का चयन होने की उम्मीद है और ऐसे में चक्रवर्ती तथा चहल दोनों को टीम में जगह मिल सकती है.

श्रीलंका की बल्लेबाजी कमजोर
श्रीलंका के लिए वनडे मैचों की तुलना में टी20 सीरीज कड़ी चुनौती होगी क्योंकि उसके पास लगातार बड़े शॉट खेलकर मैच का रुख बदल पाने वाले खिलाड़ी नहीं हैं.
चरिथ असालंका ने पहले मैच में 44 रन की पारी खेलकर भारत पर दबाव डालने का प्रयास किया था लेकिन अहम मौकों की दासुन शनाका की टीम की अनुभवहीनता झलकी. टीम ने सोमवार को अंतिम छह विकेट सिर्फ 15 रन जोड़कर गंवाए. वानिंदु हसारंगा ने अपनी लेग स्पिन से प्रभावित किया है और सूर्यकुमार को छोड़कर भारत के अन्य बल्लेबाजों को कुछ परेशान करने में सफल रहे हैं.

टीम इस प्रकार हैं:

भारत: शिखर धवन (कप्तान), पृथ्वी शॉ, देवदत्त पडिक्कल, ऋतुराज गायकवाड़, सूर्यकुमार यादव, मनीष पांडे, हार्दिक पंड्या, नीतीश राणा, इशान किशन, संजू सैमसन, युजवेंद्र चहल, राहुल चाहर, के गौतम, कृणाल पंड्या, कुलदीप यादव, वरुण चक्रवर्ती, भुवनेश्वर कुमार, दीपक चाहर, नवदीप सैनी, चेतन सकारिया.



श्रीलंका: दासुन शनाका (कप्तान), धनंजय डिसिल्वा, अविष्का फर्नांडो, भानुका राजपक्षे, पथुम निसानका, चरिथ असालंका, वानिन्दु हसारंगा, अशेन बंडारा, मिनोद भानुका, लाहिरू उदारा, रमेश मेंडिस, चमिका करुणारत्ने, बिनुरा फर्नांडो, दुष्मंता चमीरा, लक्षण संदाकन, अकिला धनंजय, शिरन फर्नांडो, धनंजय लक्षण, इशान जयरत्ने, प्रवीण जयविक्रमा, असित फर्नांडो, कासुन रजिता, लाहिरू कुमारा और इसुरू उदाना.