टेस्ला हुई पुरानी, ये सोलर इलेक्ट्रिक कार एक चार्ज में चलती है 700km, टक्कर में कोई नहीं

 सोलर इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता लाइटइयर ने हाल ही में अपनी लाइटइयर वन प्रोटोटाइप कार का टेस्ट किया, जिसने लगभग नौ घंटे के लिए 60 kWh के सिंगल बैटरी चार्ज पर 710 किमी की दूरी तय की. ईवी निर्माता का कहना है कि लाइटइयर वन दुनिया का पहला लंबी दूरी का सोलर इलेक्ट्रिक वाहन है. लाइटइयर के जरिए प्रोटोटाइप कार को जर्मनी के एल्डनहोवन टेस्टिंग सेंटर में ले जाया गया जहां उसने 85 किमी प्रति घंटे की स्पीड से एक ड्राइव ट्रैक पूरा किया.

टेस्टिंग 60 kWh के सिंगल बैटरी चार्ज पर किया गया था. लाइटइयर का मानना है कि आज बाजार में सबसे कुशल इलेक्ट्रिक कारें भी इस कम गति पर लगभग 50% अधिक ऊर्जा की खपत करती हैं. टेस्टिंग में हर चीज को टेस्ट किया गया जिसमें सोलर पैनल, व्हील का फंक्शन, कूलिंग सिस्टम का कंजम्पशन, सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग और बैटरी परफॉर्मेंस शामिल है. ईवी मेकर ने इस बात पर जोर देकर कहा कि, लॉन्ग रेंज वाली सोलर कार एक बड़े अवसर के रुप में सामने आ सकती है और मोबिलिटी को बदल सकती है क्योंकि कोई भी महीनों तक गाड़ी को बिना चार्जिं के नहीं चला सकता.

लाइटइयर लेक्स होफ्सलूट के सह-संस्थापक और सीईओ ने नोट किया कि यह कंपनी की महत्वपूर्ण इंजीनियरिंग और तकनीकी मील का पत्थर है क्योंकि इलेक्ट्रिक कार का प्रदर्शन पूर्व की पेटेंट तकनीक को मान्य करता है. उन्होंने कहा कि, इस प्रोटोटाइप में 440 मील से अधिक की रेंज है और 53 मील प्रति घंटे पर केवल 137 Wh/मील की ऊर्जा खपत होती है. यह मील का पत्थर हमारे व्यापार मॉडल की मापनीयता की एक बड़ी पुष्टि है.

वहीं उन्होंने आगे बताया कि, हमें विश्वास है कि आने वाले महीनों में हम हाईवे स्पीड से ऊर्जा की खपत के समान स्तर तक पहुंचने में सक्षम होंगे. ईवी की प्रति मील ऊर्जा खपत कम करने का मतलब है कि आप एक छोटी बैटरी पर बहुत अधिक रेंज प्रदान कर सकते हैं.” Hoefsloot यह भी बताता है कि कम ऊर्जा खपत वाली कारों में सोलर सेल्स को जोड़ने से एक फायदा हो सकता है क्योंकि यह धूप वाले दिन में लगभग 45 मील चार्ज कर सकता है.

कंपनी ने बताया है कि 2022 की पहली छमाही में 946 लाइटइयर वन्स की एक एक्सक्लूसिव सीरीज प्रोडक्शन में जाएगी क्योंकि वह 2024 से बड़े पैमाने पर मास्केट का पता लगाना चाहती है.