जानिए गिलोय को कब और कितनी मात्रा में लेना है सही, इम्यूनिटी बढ़ने के साथ इन बीमारियों से मिलेगा छुटकारा

कोरोना वायरस से खुद को बचाने के लिए हर कोई आयुर्वेद की ओर रुख कर रहा हैं। आयुष मंत्राल ने भी इस बात पर जोर दिया कि अपनी इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए अश्वगंधा, हल्दी, गिलोय आदि का काढ़ा पीना मददगार साबित होगा। ऐसे में गिलोय के बारे में हर कोई अधिक से अधिक जानने की कोशिश कर रहा हैं। आपको बता दें कि गिलोय एक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है। जो आपकी इम्यूनिटी को मजबूत करने के साथ-साथ कई बीमारियों में कारगर साबित हो सकता है। जानिए इसे खाने का सही तरीका और कितनी मात्रा में खाना आपके लिए है बेस्ट।

गिलोय में पाए जाने वाले तत्व

गिलोय में गिलोइन नामक ग्लूकोसाइड और टीनोस्पोरिन, पामेरिन एवं टीनोस्पोरिक एसिड पाया जाता है। इसके अलावा इसमें कॉपर, आयरन, फास्फोरस, जिंक,कैल्शियम, मैग्नीशियम के साथ-साथ एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी,  एंटी-कैंसर आदि तत्व पाए जाते हैं। जो आपको हर बीमारियों से कोसों दूर रखते हैं।

कैसे करें गिलोय का सेवन

आज के समय में अधिकतर लोगों को यह नहीं पता है कि आखिर गिलोय का सेवन कैसे और कितनी मात्रा में करना उनकी सेहत के लिए अच्छा है।  आप गिलोय का सेवन 3 तरीके से कर सकते हैं। गिलोय सत्व, गिलोय जूस  या गिलोय स्वरस और गिलोय चूर्ण। इसका तना, जड़, पत्ते हर एक चीज में औषधिय गुण पाएं जाते हैं।
गिलोय जूस
गिलोय का जूस
अगर आपको गिलोय का तना कहीं से मिल जाता है। तो उसे अच्छी तरह से धो कर गर्म पानी में अच्छी तरह से उबाल लें। जब पानी आधा बचे। तो गैंस बंद करके इसे ठंडा होने दें। अब रोजाना एक गिलास गिलोय का जूस पी सकते हैं।
गिलोय काढ़ा
गिलोय का काढ़ा
अगर आप गिलोय का काढ़ा पीना चाहते हैं तो इसके लिए इमामदत्ता में गिलोय के एक टुकड़ा, 4-5 तुलसी की पत्तियां, 2 काली मिर्च, थोड़ी सी कच्ची हल्दी, थोड़ी अदरक, थोड़ी अश्वगंधा डालकर कूट लें। इसके बाद एक पैन में 2 गिलास पानी डालकर गर्म करें और इसमें यह कूटी हुई सामग्री डाल दें। अब धीमी आंच में पकने दें। जब पानी आधा बचे। तो गैस बंद करके इसे कप में छान लें और हल्का गुनगुना इसका सेवन करें। यह एक बार में आधा से एक गिलास पिया जा सकता है।
गिलोय की गोली
कई जगह गिलोय का पौधा नहीं मिल पाता है। ऐसे में आप चाहे तो गिलोय की गोलियां ला सकते हैं। अगर 5 से 10 साल का बच्चा हैं को उसे आधी से एक गोली दे। वहीं इससे बड़ा हैं तो दिन में एक गोली खा सकता है। वहीं वयस्क लोग एक दिन में 2 गोली का सेवन कर सकते हैं।
गिलोय

कब-कब कर सकते हैं गिलोय का सेवन

  • अगर आप अपनी इम्यूनिटी बूस्ट करना चाहते हैं तो रोजाना इसका सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय का काढ़ा, गोली या फिर जूस पी सकते हैं।
  • अगर आपको बुखार हैं तो इसका काढ़े का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप गिलोय घनवटी पानी के साथ दिन में दो बार खाने के बाद लें।
  • हमेशा जवां दिखने के लिए नियमित रूप से इसका सेवन करें।
  • अस्थमा की समस्या हैं तो इसका सेवन कारगर साबित हो सकता है। गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाएं जाते हैं जो आपकी सांसों से संबंधित रोगों से आराम दिलाने में  मदद करता है। इसके लिए आप गिलोय के पाउडर को मुलेठी पाउडर और शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार सेवन करें।
  • गिलोय में एंटी-आर्थराइटिक गुण पाए जाते हैं जो गठिया जैसे रोगों में काफी कारगर है। इसके लिए आप गिलो का जूस या फिर काढ़ा का सेवन कर सकते हैं।
  • पाचन तंत्र को फिट रखने के लिए इसका सेवन करें।
  • अगर डेंगू के कारण आपके प्लेटलेट्स कम हो गए हैं तो इसका सेवन करके आसानी से इन्हें बढ़ा सकते हैं। इसके लिए रोजाना गिलोय का जूस दिन में दो बार पिएं।
  • अगर आप अपना शुगर कंट्रोल करना चाहते हैं तो इसका सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय का जूस और चूर्ण का सेवन कर सकते हैं।
  • अगर आपको काफी दिनों से खांसी आ रही हैं तो गिलोय का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय के काढ़े का सेवन करें।
  • अगर शरीर में खून की ज्यादा कमी हैं तो इसका सेवन करें। इसके लिए आप गिलोय के जूस को शहद का पानी के साथ दिन में 2 बार करें।