पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट पर मिल रहा बैंकों से ज्‍यादा ब्‍याज, टैक्‍स बचाना है तो ये नियम भी जान लीजिए

 कम जोखिम के साथ अच्‍छा रिटर्न पाने के लिए अधिकतर लोग छोटी बचत योजनाओं में निवेश करने पर जोर देते हैं. इन योजनाओं की सबसे बड़ी खासियत इनपर मिलने वाली सरकारी गारंटी होती है. इसके अलावा इन योजनाओं पर टैक्‍स छूट समेत कई अन्‍य तरह के लाभ भी मिलते हैं. पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट भी इन्‍हीं योजनाओं में से एक है. इस अकाउंट के जरिए बचत करने पर आप एक साल में 13,500 रुपये के टैक्‍स की बचत कर सकते हैं.

अगर पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट ज्‍वॉइंट रूप से है तो आपकी कुल टैक्‍स बचत की लिमिट 17,000 रुपये तक पहुंच सकती है. टैक्‍स व इन्‍वेस्‍टमेंट एक्‍सपर्ट्स की मानें तो यह पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट होल्‍डर्स को मिलने वाला अति‍रिक्‍त टैक्‍स बेनिफिट है, जिसे वे इनकम टैक्‍स रिटर्न (ITR) फाइल करते वक्‍त क्‍लेम कर सकते हैं.

पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट पर मिलने वाला ब्‍याज दर

ब्‍याज दर की बात करें तो पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट पर बैंकों की तुलना में ज्‍यादा ब्‍याज मिलता है. कम ब्‍याज दर के इस दौर में बैंकों में सेविंग्‍स अकाउंट पर करीब 3 फीसदी की दर से ब्‍याज मिल रहा है. जबकि, पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट पर 4 फीसदी की दर से ब्‍याज मिल रहा है. इस प्रकार बैंकों की तुलना में पोस्‍ट ऑफिस की सेविंग्‍स अकाउंट पर करीब एक तिहाई ज्‍यादा ब्‍याज मिलता है.

ज्‍यादा ब्‍याज के साथ टैक्‍स बचत का भी लाभ

ऐसे में कम जोखिम वाले निवेशकों को सलाह दी जाती है कि वे पोस्‍ट ऑफिस की सेविंग्‍स अकाउंट में बचत कर 33 फीसदी ज्‍यादा ब्‍याज का लाभ उठाया जा सकता है. साथ ही इनकम टैक्‍स के मोर्चे पर 35 फीसदी की छूट (10,000 की जगह 13,500 रुपये) का भी लाभ मिलता है.

किस नियम के तहत मिलता है यह लाभ

पोस्ट सेविंग्‍स अकाउंट को लेकर एक टैक्‍स जानकार का कहना है कि वर्तमान में सेविंग्‍स बैंक अकाउंट पर मिलने वाला ब्‍याज इनकम टैक्‍स कानून के सेक्‍शन 10(15)(i) के तहत आता है. 09 जून 1989 के एक नोटिफिकेशन संख्‍या G.S.R. 607(E) जारी किया गया था, इसके अनुसार पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट पर मिलने वाले ब्‍याज पर छूट इस प्रकार है – व्‍यक्तिगात अकाउंट पर 3,500 रुपये और ज्‍वॉइंट अकाउंट पर 7,000 रुपये है.

आईटीआर में कैसे देनी होगी इसकी जानकारी

व्‍यक्तिगत अकाउंट पर 3,500 रुपये का यह टैक्‍स छूट सेक्‍शन 80TTA के तहत मिलने वाले 10,000 रुपये की छूट के अतिरिक्‍त है. इस प्रकार ऐसे अकाउंटहोल्‍डर अपना इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करते समय 3,500 या 7,000 रुपये का टैक्‍स क्‍लेम कर सकते हैं. उन्‍हें इसे ‘एग्‍जेम्‍प्‍ट इनकम’ हेड के तौर पर डिक्‍लेयर करना होगा.