बैंक खाते से किसी ने पैसे उड़ा लिए तो क्या करना चाहिए, कैसे वापस मिलेगी पूरी रकम

 नई दिल्ली . दुनिया जितनी तेजी से डिजिटल हो रही है उतनी ही तेजी से ऑनलाइन फ्रॉड भी बढ़ रहे हैं. सबसे ज्यादा बैंकिंग ठगी के मामले सामने आ रहे हैं. बल्कि कोरोना काल में ऑनलाइन ठगी तेजी से बढ़ी है. हैकर्स अकाउंट की सारी जानकारी निकाल कर खाते से पैसे उड़ा ले रहे हैं.

बैंक और आरबीआई भी लगातार अपने ग्राहकों को सतर्क करते रहते हैं . किसी तरह की जानकारी या ओटीपी शेयर करने से बचने की सलाह दी जाती है. साथ बैंक किसी तरह ऑनलाइन ठगी होने तुंरत बैंक को सूचना देने की सलाह देते हैं. तुरंत सूचना देकर आप अपना नुकसान कम कर सकते हैं. आइए जानें इसके बारे में…

कैसे मिलेंगे पूरे पैसे वापस?
ज्यादातर लोगों के मन में अब सवाल उठता है कि अगर ऐसा कोई ट्रांजेक्शन हुआ है तो पैसा कैसे वापस मिलेगा? साथ ही बैंक खाते से पैसे निकलने पर शिकायत कर भी दी तो बैंक पैसे कहां से लौटाएगा. दरअसल, बैंकों की तरफ से ऐसे साइबर फ्रॉड के मद्देनजर इंश्योरेंस पॉलिसी ली जाती है. बैंक आपके साथ हुए फ्रॉड की सारी जानकारी सीधे इंश्योरेंस कंपनी को बताएगा और वहां से इंश्योरेंस के पैसे लेकर आपके नुकसान की भरपाई करेगा. साइबर फ्रॉड से बचने के लिए इंश्योरेंस कंपनियां भी लोगों को सीधे कवरेज दे रही हैं.


फ्रॉड होने के 3 दिन में करें शिकायत
अगर आपके बैंक खाते से कोई गलत तरीके से रकम निकाल लेता है और आप तीन दिन के अंदर इस मामले के बारे में बैंक को शिकायत करते हैं तो आपको यह नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा. RBI ने यह भी कहा है कि निर्धारित समय में बैंक को सूचना दे देने पर ग्राहक के खाते से धोखाधड़ी कर निकाली गई रकम 10 दिन के अंदर उसके बैंक खाते में वापस आ जाएगी. आरबीआई ने यह भी कहा है कि अगर बैंक खाते से हुई धोखाधड़ी की रिपोर्ट 4-7 दिन बाद की जाती है, तो ग्राहक को 25,000 रुपये तक का नुकसान खुद उठाना होगा.

कितने पैसे मिलेंगे वापस
अगर बैंक अकाउंट बेसिक सेविंग बैंकिंग डिपॉजिट अकाउंट यानी जीरो बैलेंस अकाउंट है तो आपकी लायबिलिटी 5000 रुपये होगी. यानी अगर आपके बैंक अकाउंट से 10,000 रुपये का अनाधिकृत ट्रांजेक्‍शन हुआ है तो आपको बैंक से 5000 रुपये ही वापस मिलेंगे. बाकी के 5000 रुपये का नुकसान आपको वहन करना होगा.

सेविंग खाते पर क्या है नियम
अगर आपका सेविंग अकाउंट है और आपके अकाउंट से अनाधिकृत ट्रांजेक्‍शन हुआ है तो आपकी लायबिलिटी 10000 रुपये होगी. यानी अगर आपके अकाउंट से 20,000 रुपये का अनाधिकृत ट्रांजेक्‍शन हुआ है तो बैंक से आपको 10,000 रुपये ही वापस मिलेंगे. बाकी 10,000 रुपये का नुकसान आपको उठाना होगा.

क्रेडिट कार्ड को लेकर क्या है नियम
अगर आपके करंट अकाउंट या 5 लाख रुपये से अधिक लिमिट के क्रेडिट कार्ड से अनाधिकृत ट्रांजेक्‍शन होता है तो ऐसे मामलों में आपकी लायबिलिटी 25,000 रुपये होगी. यानी अगर आपके अकाउंट से 50,000 रुपये का अनाधिकृत ट्रांजेक्‍शन हुआ है तो बैंक आपको 25,000 रुपये ही देगा. बाकी 25,000 रुपये का नुकसान आपको उठाना होगा.