IND vs SL: टीम इंडिया आखिरी ओवर तक चले मुकाबले में हारी, श्रीलंका ने 4 विकेट से दी शिकस्त

 श्रीलंका (Sri Lanka) ने भारत (India) को दूसरे टी20 मुकाबले में चार विकेट से हरा दिया है. भारत ने जीत के लिए 133 रन का लक्ष्य दिया था. इसे श्रीलंका ने आखिरी ओवर में दो गेंद बाकी रहते हासिल कर लिया. श्रीलंका की जीत के नायक धनंजय डिसिल्वा रहे जिन्होंने नाबाद 40 रन बनाए. विजयी रन भी उनके बल्ले से ही निकले. उन्होंने अपनी पारी में एक चौका और एक छक्का लगाया लेकिन वे एक छोर पर डटे रहे जिससे श्रीलंका लक्ष्य तक पहुंच गई. भारत ने पहले बैटिंग करते हुए पांच विकेट पर 132 रन का स्कोर खड़ा किया था. तीन मैच की सीरीज में दोनों टीमें 1-1 से बराबर हो गई हैं. अब दोनों टीमें 29 तारीख को आखिरी मैच में आमने-सामने होंगी. इसमें जो जीतेगा वह टी20 सीरीज अपने नाम कर लेगा.

इस सीरीज में अब ऑलराउंडर क्रुणाल पंड्या के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के भारत के नौ खिलाड़ी चयन के लिए उपलब्ध नहीं हैं. ये सभी क्लोज कॉन्टेक्ट होने से सीरीज से बाहर हो गए. ऐसे में दूसरे टी20 में भारत ने छह विशेषज्ञ गेंदबाजों को उतारा जिनमें तेज गेंदबाज नवदीप सैनी भी शामिल थे जिनसे एक भी ओवर नहीं कराया गया. भारतीय टीम में आईपीएल सितारों ऋतुराज गायकवाड़, देवदत्त पडिक्कल, नीतिश राणा और चेतन साकरिया को जगह दी गई.

श्रीलंका ने भी लगातार विकेट गंवाए

श्रीलंका ने लक्ष्य का पीछा करते हुए अविष्का फर्नान्डो (11) को तीसरे ही ओवर में 12 रन के कुल स्कोर पर आउट हो गए. वे भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में राहुल चाहर को कैच दे बैठे. सादीरा समरविक्रमा भी आठ रन बनाकर वरुण चक्रवर्ती की गेंद पर बोल्ड हो गए. इससे श्रीलंका ने पावरप्ले का खात्मा दो विकेट पर 39 रन के साथ किया. श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने शुरुआती ओवरों में बाउंड्री से ज्यादा रन बनाए. लेकिन भारतीय स्पिनर्स के मोर्चे पर आने के बाद रनगति भी धीमी हो गई और विकेट भी लगातार अंतराल पर गिरने लगे. कुलदीप यादव ने पहले दसुन शनका (3) को स्टंप कराया तो ओपनर मिनोद भानुका (36) को राहुल चाहर के हाथों लपकाया. कुलदीप की गेंदों पर भारत ने कुछ मौके भी गंवाए. इसके तहत एक बार डीआरएस नहीं लिया गया तो एक बार भुवनेश्वर कुमार ने कैच छोड़ दिया.

आखिर में धनंजय डिसिल्वा ने 34 गेंद में नाबाद 40 रन बनाए. वहीं चमिका करुणारत्ने छह गेंद में एक छक्के के सहारे 12 रन बनाकर नाबाद रहे. भारत के लिए कुलदीप यादव ने दो विकेट लिए. उपकप्तान भुवनेश्वर कुमार ने अपने आखिरी ओवर में 12 रन दे डाले जिससे श्रीलंका के सामने आखिरी ओवर में सिर्फ आठ रन बनाने का लक्ष्य रह गया. अपना पहला मैच खेल रहे साकरिया के लिये उसे रोक पाना मुश्किल था.

चार डेब्यू के साथ उतरी भारतीय टीम

इससे पहले कोरोना संक्रमण के कारण सितारों के बिना उतरी भारतीय क्रिकेट टीम ने पांच विकेट पर 132 रन बनाए. पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले देवदत्त पडिक्कल ने संक्षिप्त पारी में ही प्रतिभा की बानगी पेश की. भारतीय बल्लेबाजों को कितनी कठिनाई हो रही थी, उसका अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि 20 ओवरों में सिर्फ सात चौके और एक छक्का लगा जबकि 42 डॉट गेंदे डाली गई. पिच को देखते हुए भारतीय टीम अपने स्कोर से नाखुश नहीं होगी. कप्तान शिखर धवन ने संभलकर खेलते हुए 42 गेंद में 40 रन बनाए. भारी बारिश के कारण धीमी हुई आउटफील्ड पर रन बनाना मुश्किल हो रहा था लेकिन पडिक्कल ने 23 गेंद में 29 रन बनाए.

भारत के पास केवल 5 स्पेशलिस्ट बल्लेबाज रहे

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू कर रहे ऋतुराज गायकवाड़ ने 18 गेंद में 21 रन की पारी खेली. श्रीलंका के कप्तान दसुन शनाका की शॉर्ट गेंद पर वह पुल शॉट खेलने के प्रयास में मिनोद भानुका को कैच थमा बैठे. भारतीय टीम में सिर्फ पांच विशेषज्ञ बल्लेबाज उतरे थे लिहाजा धवन ने अपने चिर परिचित आक्रामक अंदाज में नहीं खेला. उन्होंने अपनी पारी में पांच चौके जड़े लेकिन ऑफ स्पिनर धनंजय डिसिल्वा को स्लॉग स्वीप लगाने के प्रयास में आउट हो गए.

दूसरी ओर पडिक्कल ने धनंजय को स्लॉग स्वीप पर छक्का लगाया. कप्तान धवन के साथ 32 रन की साझेदारी में विकेटों के बीच उनकी दौड़ भी अच्छी थी. उन्होंने वानिंदु हसरंगा को इसी तरह के शॉट पर चौका लगाया. संजू सैमसन ने एक बार फिर मौका गंवा दिया और 13 गेंद पर सात रन बनाकर आउट हुए. अकिला धनंजय ने उन्हें बोल्ड किया.