शिखर धवन का बल्ला IPL में दिखाता है जोश, लेकिन टीम इंडिया के लिए खामोश, टी20 वर्ल्ड कप की राह है मुश्किल

 भारत और श्रीलंका (India vs Sri Lanka) के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का दूसरा मुकाबला मेजबान टीम के नाम रहा. श्रीलंका ने भारत को रोमांचक मुकाबले में 4 विकेट से हराकर सीरीज में 1-1- की बराबरी की. कोलंबो के आर प्रेमदासा स्टेडियम में इस मुकाबले के लिए इस्तेमाल की गई पिच काफी धीमी रही और इसके कारण बल्लेबाजों को रन बनाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा. भारत के लिए सबसे ज्यादा रन कप्तान शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने बनाए. उन्होंने 40 रनों की पारी खेली, लेकिन उनकी ये पारी काफी धीमी थी, जिसके लिए उन्होंने 42 गेंदें खेलीं. टी20 विश्व कप (ICC T20 World Cup 2021) से ठीक पहले इस तरह की बल्लेबाजी से उनके टीम में चुने जाने की उम्मीदें धुंधली पड़ रही हैं. खास तौर पर पिछले 2 सालों का रिकॉर्ड उनके पक्ष में नहीं है.

सीरीज के दूसरे मुकाबले में दोनों टीमों की ओर से बल्लेबाजी में दम नहीं दिखा, क्योंकि स्पिनरों ने इस मैच में अपना दबदबा दिखाया. भारत ने पहले बल्लेबाजी की और 20 ओवरों में 132 रन बनाए. टीम इंडिया के लिए ऋतुराज गायकवाड़ और देवदत्त पडिक्कल जैसे युवा बल्लेबाज अपने डेब्यू में अच्छा खेलते दिखे, लेकिन बड़ी पारियां नहीं खेल पाए. कप्तान शिखर धवन सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे, लेकिन फिर भी उनकी पारी का ज्यादा असर नहीं हुआ.

IPL और टीम इंडिया के लिए स्ट्राइक रेट में फर्क

अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप से पहले धवन के लिए ये धीमी पारी मुश्किलें बढ़ा सकती हैं. भारतीय ओपनर ने बीते दो साल के अंदर टीम इंडिया की जर्सी में ज्यादा असरदार प्रदर्शन नहीं किया है, जबकि IPL में अपनी फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स के लिए उनके बल्ले से खूब रन बरसे हैं. आंकड़ों के मुताबिक,

2019 के बाद से धवन IPL में शानदार फॉर्म में दिखे हैं. उन्होंने इस दौरान 41 पारियों में 1519 रन बनाए हैं, जिसमें उनका स्ट्राइक रेट 138.85 का रहा. उन्होंने 2 शतक और 12 अर्धशतक जमाए. वहीं भारत के लिए उन्होंने 20 पारियां खेलीं, जिसमें सिर्फ 113 के स्ट्राइक रेट से 527 रन ही बना सके हैं. साथ ही 2 अर्धशतक जमाए हैं.

पहले ही पिछड़ चुके हैं धवन

शिखर धवन पहले ही विश्व कप के लिए ओपनिंग की रेस में पिछड़ चुके हैं. मार्च में इंग्लैंड के खिलाफ हुई टी20 सीरीज से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि विश्व कप को ध्यान में रखते हुए रोहित शर्मा और केएल राहुल टीम के मुख्य ओपनर होंगे, जबकि शिखर धवन स्टैंडबाई ओपनर रहेंगे. इनके अलावा टीम में पृथ्वी शॉ और इशान किशन जैसे युवा बल्लेबाज भी ओपनर के तौर पर अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं.