Tokyo Olympics: सतीश कुमार देश के लिए भूले अपना सारा दर्द, सिर में लगे हैं 7 टांकों के साथ खेलेंगे मुकाबला

 भारत के लिए रविवार का दिन टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympic) के लिहाज से काफी अहम होगा. जहां एक और बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu) ब्रॉन्ज मेडल के लिए उतरेंगी वहीं दूसरी ओर बॉक्सर सतीश कुमार क्वार्टरफाइनल मैच जीतकर मेडल पक्का करना चाहेंगे. पहले इस बात पर संशय जताया जा रहा था कि सतीश यह मुकाबला खेलेंगे लेकिन अब उन्हें मेडिकल बोर्ड की ओर से अनुमति मिल गई हैं

सतीश का क्वार्टर फाइनल में सामना उजबेकिस्तान के बखोदिर जालोलोव से होगा, जो मौजूदा विश्व और एशियाई चैम्पियन हैं. जालोलोव ने अजरबैजान के मोहम्मद अब्दुल्लायेव को 5-0 से हराया. सतीश इस मुकाबले में भी भारी पड़ते हैं, तो उनका पदक सुनिश्चित हो जाएगा. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के रहने वाले सतीश सेना में हैं और पहले कबड्डी खेलते थे. सेना के कोचों ने उनकी अच्छी कद काठी देखकर उन्हें मुक्केबाजी खेलने का मौका दिया.

सतीश कुमार को मिली अनुमति

सतीश कुमार अपने पिछले मिकाबले में चोटिल हो गए थे. जमैका के रिकार्डो ब्राउन के खिलाफ मुकाबले में सतीश की ठुड्डी और दाईं आंख पर गहरा कट लगा था. इसके बाद उन्हें 7 टांके लगाने पड़े हैं. सतीश ने इस मुकाबले में 4-1 से जीत दर्ज की थी. अगर सतीश एक और मुकाबला जीत लेते हैं तो उनका मेडल पक्का हो जाएगा. मुकाबले से पहले मेडिकल बोर्ड ने उन्हें रिंग में उतरने की अनुमति दे दी

क्वार्टर फाइनल खेलने पर था संशय

शनिवार को भारतीय मुक्केबाजी संघ के अध्यक्ष अजय सिंह ने कहा था कि डॉक्टर के कहने के बाद ही सतीश रिंग में उतरेंगे क्योंकि उन्हें सात टांके लगे हैं. फाइट के बाद भारतीय मुक्केबाजी के हाई परफॉर्मेंस निदेशक सैंटियागो नीवा ने कहा था, ‘उन्हें मुकाबले के दौरान तीन बार सिर पर प्रहार के कारण कट लगा है. सतीश ने काफी संभलकर उसका सामना किया वरना ब्राउन के कद काठी को देखते हुए गंभीर चोट लग सकती थी.’ मेडिकल बोर्ड ने सतीश की सारी जांच करने के बाद उन्हें मुकाबला खेलने के लिए फिट बताया है. पांच पुरुष भारतीय मुक्केबाजों ने टोक्यो ओलिंपिक खेलों का टिकट हासिल किया था. सतीश को.   छोड़कर, सभी मुक्केबाज पहले दौर में बाहर हो गए. स्टार मुक्केबाज अमित पंघाल भी शनिवार को क्वार्टर फाइनल में पहुंचने में नाकाम रहे.