दूसरे टी20 में पाकिस्तान ने वेस्ट इंडीज को 7 रन से हराया, मोहम्मद हफीज बने जीत के हीरो

पाकिस्तान ने वेस्ट इंडीज को दूसरे T20 मुकाबले में हरा दिया है. इस जीत के साथ 4 T20 की सीरीज में उसने 1-0 की लीड ले ली है. इससे पहले पहला T20 इंटरनेशनल मुकाबला दोनों टीमों के बीच बारिश से धुल गया था. दूसरे T20I में मिली जीत में पाकिस्तान की टीम के प्रोफेसर साहेब की भूमिका सबसे अहम रही. इस प्रोफेसर ने वेस्ट इंडीज को कंजूसी का वो चैप्टर पढ़ाया है, जो T20 इंटरनेशनल में पहले देखने को कभी नहीं मिला. चौंकिए मत, क्योंकि ये कोई कॉलेज का प्रोफेसर नहीं बल्कि क्रिकेट का ही प्रोफेसर है. हम बात कर रहे हैं पाकिस्तानी खेमें के सबसे अनुभवी और उम्रदराज खिलाड़ी मोहम्मद हफीज की, जिनका निकनेम प्रोफेसर है. दूसरे T20 इंटरनेशनल में इन्होंने गेंद से अपनी प्रोफेसरगिरी दिखाकर टीम की जीत पक्की की है.

कैरेबियाई टीम को कंजूसी का चैप्टर पढ़ाते हुए प्रोफेसर हफीज ने कैसे लिखी पाकिस्तानी टीम की जीत की दास्तान वो बताएंगे. लेकिन उससे पहले जरा दोनों टीमों के बीच के मुकाबले को विस्तार से समझने की कोशिश कीजिए. मुकाबले में टॉस वेस्ट इंडीज ने जीता और पहले पाकिस्तान को पहले बल्लेबाजी का दावत दिया. पाकिस्तान की टीम ने इस निमंत्रण को स्वीकार कर पहले बल्लेबाजी की और सिर्फ 1 विकेट खोकर 100 रन का आंकड़ा पार कर लिया.

बाबर – रिज़वान की साझेदारी से पाकिस्तान 150 रन के पार

कप्तान बाबर आजम और विकेट कीपर बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान के बीच दूसरे विकेट के लिए अच्छी अर्धशतकीय साझेदारी हुई. बाबर आजम ने 40 गेंदों पर 51 रन बनाए, जो कि उनके T20 इंटरनेशनल करियर का 20वां अर्धशतक है. इसके अलावा रिजवान ने 36 गेंदों पर 46 रनों की पारी खेली. हालांकि इन दोनों के बाद पाकिस्तान का कोई भी बल्लेबाज विकेट पर धुआंधार बैटिंग नहीं कर सका. नतीजा ये हुआ कि पाक टीम 20 ओवर में 8 विकेट पर 157 ही बना पाई.

वेस्ट इंडीज को 158 रन का टारगेट, ‘प्रोफेसर’ ने कर दिया मटियामेट

158 रन का टारगेट वेस्ट इंडीज की बैटिंग लाइन अप को देखते हुए बड़ा नहीं था. लेकिन कैरेबियाई टीम और इस टारगेट के बीच आकर खड़े हो गए पाकिस्तान के प्रोफेसर साहेब, जिन्होंने अपनी रन देने में कंजूसी दिखाकर यानी किफायती स्पेल से उन्हें घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया. हफीज की गेंदों पर रन बनाना लठैत की तरह दिखने वाले वेस्ट इंडीज के बल्लेबाजों के लिए आसमान से चांद तोड़ लाने जितना मुश्किल हो गया. असर ये हुआ कि वेस्ट इंडीज टीम की कोशिश जीत से 7 रन दूर रह गई. वो 20 ओवर में 4 विकेट पर सिर्फ 150 रन ही बना सके.

‘प्रोफेसर’ हफीज का ‘कंजूसी’ वाला चैप्टर

पाकिस्तान के प्रोफेसर हफीज ने मैच में 4 ओवर में 6 रन देकर आंद्रे फ्लेचर का एक बड़ा विकेट लिया, जो बिना खाता खोले ही डगआउट लौट गए. हफीज ने अपने इन चार ओवरों में 3 ओवर मेडन डाले. यानी रन सिर्फ उन्होंने अपने एक ओवर से ही दिए. इस शानदार प्रदर्शन के बाद वो T20 इंटरनेशनल क्रिकेट के इतिहास में सबसे किफायती स्पेल करने वाले गेंदबाज भी बन गए. इस दमदार स्पेल की वजह से उन्हें मैच में पाकिस्तान की जीत का सबसे बड़ा नायक भी चुना गया.