पीवी सिंधु ने टोक्यो में भारत को दिलाया दूसरा मेडल

 रियो ओलिंपिक की रजत पदक विजेता और विश्व चैंपियन छठी वरीय पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने चीन की ही बिंग जियाओ को सीधे गेम में हराकर टोक्यो खेलों (Tokyo Olympics 2020) की महिला एकल स्पर्धा का कांस्य पदक जीता. साथ ही ओलिंपिक में दो पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी. उन्होंने दिग्गज पहलवान सुशील कुमार (Sushil Kumar) की बराबरी की. सुशील बीजिंग 2008 खेलों में कांस्य और लंदन 2012 खेलों में रजत पदक जीतकर ओलिंपिक में दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने थे. सुशील कुमार अभी दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं. उन पर एक युवा पहलवान की हत्या का आरोप है. वहीं सिंधु ने पहले सिल्वर जीता और कांसा अपने नाम किया है. वह देश की सबसे कामयाब ओलिंपियन बन गई है.

दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी सिंधु ने मुसाहिनो फॉरेस्ट स्पोर्ट्स प्लाजा में 53 मिनट चले कांस्य पदक के मुकाबले में चीन की दुनिया की नौवें नंबर की बायें हाथ की खिलाड़ी बिंग जियाओ को 21-13, 21-15 से शिकस्त दी. सिंधु ने कांस्य पदक जीतने के बाद कहा, ‘मैं काफी खुश हूं क्योंकि मैंने इतने सालों तक कड़ी मेहनत की है. मेरे अंदर भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा था- मुझे खुश होना चाहिए कि मैंने कांस्य पदक जीता या दुखी होना चाहिए कि मैंने फाइनल में खेलने का मौका गंवा दिया. लेकिन अंत में मुझे इस मुकाबले के लिए अपनी भावनाओं से पार पाना था और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना था. मैं बेहद खुश हूं और मुझे लगता है कि मैंने काफी अच्छा किया. देश के लिए पदक जीतना गौरवपूर्ण लम्हा है. मैं सातवें आसमान पर हूं. मैं इस लम्हें का पूरा लुत्फ उठाऊंगी. मेरे परिवार ने मेरे लिए कड़ी मेहनत की है और काफी प्रयास किए जिसके लिए मैं उनकी आभारी हूं.’