Delhi Metro : पिंक लाइन पर आज से त्रिलोकपुरी-मयूर विहार के बीच दौड़ेगी मेट्रो, Delhi-NCR के सभी शहरों के बीच बनेगा लिंक

 दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) की पिंक लाइन (Pink Line) पर त्रिलोकपुरी-मयूर विहार सेक्शन (Trilokpuri-Mayur Vihar section) आज से शुरू हो जाएगा. ये सेक्शन शुरू होने से मेट्रो की एनसीआर (NCR) की सभी लाइनें आपस मे जुड़ जाएंगी. यानी अब एनसीआर के किसी भी शहर जाने के लिए य़ात्रियों को बार-बार मेट्रो बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन का त्रिलोकपुरी और मयूर विहार पॉकेट-1 सेक्शन आज शुरू होने जा रहा है. ये सेक्शन शुरू होने से मेट्रो की एनसीआर की सभी लाइनें आपस में जुड़ जाएंगी. इससे अब दिल्ली के साथ-साथ एनसीआर के किसी भी शहर में जाने के लिए अब बार-बार मेट्रो बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी. अब पिंक लाइन के जरिए लोग अपनी मंजिल तक जाने वाली मेट्रो पर सवारी कर सकेंगे.

दो अलग-अलग  छोर पर मेट्रो सेवाएं उपलब्ध

पिंक लाइन सबसे बड़ा कॉरिडोर है. अब तक इस कॉरिडोर पर मेट्रो सेवाएं न होने की वजह से यात्रियों को पिंक लाइन पर दो अलग-अलग छोर पर मेट्रो सेवा उपलब्ध थी. कोरोना के समय में इस सेवा की शुरुआत को बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है.

केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज सुबह 10:15 बजे इस सेक्शन पर मेट्रो सेवा की शुरुआत करेंगे. वहीं तीन बजे से यात्री इस सेक्शन पर यात्रा कर सकेंगे.

ये लाइनें आपस में जुड़ेंगी

एनसीआर को जाने वाली मेट्रो की रेड लाइन, ब्लू लाइन, येलो लाइन और वायलेट लाइन इस कारिडोर के शुरू होने से पिंक लाइन से जुड जाएंगी. अब अगर किसी को नोएडा, गाजियाबाद समेत पूर्वी दिल्ली से फरीदाबाद या गुरुग्राम जाना होगा तो उनको ब्लू, रेड, येलो होते हुए वॉलेट लाइन के बीच चक्कर नहीं लगाने पड़ेगा. पिंक लाइन पर इंटरचेंज की सुविधा होने से यात्री अपनी मंजिले की ओर जाने वाली मेट्र्रो में सवारी कर सकेंगे.

पिकं लाइन की कुल लंबाई इस समय 58.6 किलोमीटर है. अभी त्रिलोकपुर और मयूर विहार के बीच मेट्रो सेवाएं नहीं थी. इस वजह से यात्रियों को शिव विहार-त्रिलोकपुरी और मजलिस पार्क-मयूर विहार पॉकेट -1 पर दो अलग-अलग कॉरिडोर पर सफर का मौका मिल रहा था. पूर्वी दिल्ली के इस सेक्शन में मेट्रो सुविधा नहीं होने से यात्रियों को दक्षिण समेत दिल्ली, फरीदाबाद, गुरुग्राम और नोएडा आने जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा था.