पैन कार्ड के 10 अंकों में आपकी कौन-कौन सी जानकारियाँ छिपी हैं?

आज के समय में लगभग हर किसी के पास पैन कार्ड है। पैन कार्ड कई कामों के लिए जरूरी भी है। लेकिन क्या आपने कभी गौर किया है कि आपके पैन कार्ड पर लिखे 10 अंकों का क्या मतलब होता है? दरअसल, पैन कार्ड पर लिखे अंक कोई सामान्य अंक नहीं होते हैं, बल्कि उसमें पैन कार्डधारक की कुछ जानकारियां शामिल होती हैं।

जानिये पैन कार्ड के 10 अंकों में आपकी कौन-कौन सी जानकारियाँ छिपी हैं?

पैन कार्ड जारी करने वाला आयकर विभाग पैन कार्ड के लिए एक विशेष प्रक्रिया का इस्तेमाल करता है। आपके पैन कार्ड पर जो दस अंक लिखे होते हैं उसके पहले पांच कैरेक्टर हमेशा अक्षर होते हैं, फिर अगले 4 कैरेक्टर नंबर होते हैं और फिर अंत में वापस एक अक्षर आता है।

पैन कार्ड पर लिखे पहले पांच कैरेक्टर्स में से पहले तीन कैरेक्टर एक खास तरह की सीरीज को दर्शाते हैं। इसके बाद चौथा कैरेक्टर बताता है कि आयकर विभाग की नजर में आप क्या हैं? इसे निचे दिए गए विवरण से समझिये,

A- व्यक्तियों का संघ

B- बॉडी ऑफ इंडिविजुअल्स

C- कंपनी

F- फर्म/लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनिरशिप

G- सरकारी एजेंसी

H- हिंदू अविभाजित परिवार

J- आर्टिफिशियल ज्युडिशियल पर्सन

L- लोकल अथॉरिटी

P- इंडिविजुअल

T- ट्रस्ट

इसके बाद पैन नंबर का पांचवा कैरेक्टर आपके सरनेम यानि उपनाम के पहले अक्षर को दर्शाता है। जो लोग अपने नाम में कोई सरनेम या उपनाम नहीं लिखते उन पैन कार्डधारकों के लिए पांचवां करैक्टर उनके नाम के पहले अक्षर को दर्शाता है। अगले चार कैरेक्टर नंबर होते हैं, जो 0001 से 9990 के बीच हो सकते हैं। इसके बाद आपके पैन नंबर का अंतिम करैक्टर हमेशा एक अक्षर होता है।

Comments are closed.