निःसंतान महिलाओं के बच्चे पैदा करवाने के लिए डॉक्टर करता था ये घिनौना काम, सामने आया चौंकाने वाला सच

80-वर्षीय डॉक्टर बर्नार्ड नॉरमन बारविन खुद सुनवाई के दौरान उपस्थित नहीं हुआ, लेकिन उसने अपने वकीलों के ज़रिये मुकदमा नहीं लड़ने की बात कही थी।

बारविन के खिलाफ एक और मामला चल रहा है, जिसमें गलत शुक्राणुओं के ज़रिये 50-100 प्रसव करवाने का आरोप है, जिनमें से 11 मामलों में उसने खुद के शुक्राणु इस्तेमाल किए थे। उसकी गलत हरकतें तब सामने आईं, जब इन्सैमिनेशन से पैदा हुए एक बच्चे को अपनी पारिवारिक पृष्ठभूमि जानने की उत्सुकता जगी, और एक अन्य को सीलियाक रोग से पीड़ित पाया गया, जो सिर्फ आनुवंशिक होती है, तथा उसके माता-पिता में से किसी को भी वह रोग नहीं था।डॉक्टर की गंदी करतूत, अपने ही शुक्राणुओं से पैदा करवाता था निःसंतान महिलाओं के बच्चे

रेबेका डिक्सन ने कहा कि उसे तीन साल पहले 25 साल की उम्र में पता चला कि बर्नार्ड नॉरमन बारविन ही उसका जैविक पिता है। उसका कहना था कि यह सुनकर उसे खुद से ‘घृणा’ हो गई, और उसे ऐसा महसूस होने लगा, जैसे उसमें ‘ज़हर’ घोल दिया गया हो। पीड़ित के रूप में बयान के दौरान रेबेका ने कहा, “बस, उसी क्षण मेरी ज़िन्दगी पूरी तरह बदल गई। कुछ समय के लिए तो मुझे अपना चेहरा भी अन्जाना लगने लगा, जैसे आईने से झांकता चेहरा पूरी तरह मेरा नहीं है।” रेबेका के अनुसार, इस बात का पता चलने से मेरा परिवार भी तनाव में आ गया।

रेबेका ने कहा, स्वास्थ्य की गंभीर समस्याओं से जूझ रहे उसके पिता को “यह कबूल करने में काफी दिक्कतें हुईं कि जिस बच्ची को वह अब तक पालते-पोसते और प्यार करते रहे, दरअसल वह उसके जैविक पिता नहीं हैं। मेरी मां को भी यह सच्चाई को महसूस करना पड़ा कि उनके शरीर के साथ कुछ हुआ, जिसकी उन्हें जानकारी नहीं थी, जिसकी उन्होंने अनुमति नहीं दी थी।” रेबेका डिक्सन ने कहा, ‘भीड़ में होने पर मैं खुद भी लोगों के चेहरों की ओर देखने लगी थी, और मिलते-जुलते चेहरे तलाश करने लगी थी, जो मेरे सौतेले भाई-बहन हो सकते थे।’

Comments are closed.