भारत के राज्यों में साक्षरता दर

credit: third party image reference

 

अर्थ एवं अभियान :-

साक्षरता का अर्थ है शिक्षा प्राप्त करना |

जिस देश के लोग ज्यादा पढ़े लिखे होते है उस देश में सबसे अधिक विकास होता है | वहां के लोग सफलता को आसानी से पा लेते हैं | साक्षरता दिवस हर साल 8 सितंबर को मनाया जाता है | इस दिवस को मानाने का सबसे बड़ा उद्देश्य यह है की लोग शिक्षा को महत्व दे और शिक्षा ग्रहण करे | इस आन्दोलन की शुरुआत सबसे पहले यूनेस्को के द्वारा 1966 में की गयी थी और यह अभियान चलाया गया था की हम सभी को अपने देश में साक्षरता को बढ़ावा देना चाहिए |इस अभियान के तहत यह टारगेट रखा गया था की 1990 तक पूरे विश्व में कोई भी अनपढ़ नहीं रहेग  

परिभाषा (यूनेस्को) :-

संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) ने साक्षरता की एक परिभाषा का मसौदा तैयार किया है, जिसमें अलग-अलग संदर्भों से जुड़े मुद्रित और लिखित सामग्रियों को पहचानने, समझने, व्याख्या, बनाने, संवाद करने और उपयोग करने की क्षमता है। साक्षरता में एक निरंतरता शामिल है। अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए, अपने ज्ञान और क्षमता को विकसित करने और अपने समुदाय और व्यापक समाज में पूरी तरह से भाग लेने के लिए व्यक्तियों को सक्षम करने में सीखना है ।

राष्ट्रीय साक्षरता मिशन:-

राष्ट्रीय साक्षरता मिशन पढ़ने, लिखने और अंकगणित के कौशल और उन्हें एक दिन के जीवन में लागू करने की क्षमता प्राप्त करने के रूप में साक्षरता को परिभाषित करता है। कार्यात्मक साक्षरता की उपलब्धि का अर्थ है,

(i)आत्मनिर्भरता

(ii) अभाव के कारणों के बारे में जागरूकता और विकास की प्रक्रिया में भाग लेकर उनकी स्थिति के सुधार की दिशा में बढ़ने की क्षमता

(iii) कौशल में सुधार करने के लिए कौशल प्राप्त करना आर्थिक स्थिति और सामान्य भलाई

(iv) राष्ट्रीय एकीकरण, पर्यावरण का संरक्षण, महिलाओं की समानता, छोटे परिवार के मानदंडों के पालन जैसे मूल्यों का पालन।

भारत में साक्षरता दर:-

 -यह रिपोर्ट नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस सर्वे (NSO Survey) पर आधारित है। 75वें नेशनल सैंपल सर्वे (जुलाई 2017 से जून 2018):-

  • देश की कुल साक्षरता दर (India overall literacy rate) 77.7 फीसदी है। भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में यह 73.5 फीसदी और शहरी क्षेत्रों में 87.7 फीसदी है।
  • रुषों के मामले में देश की साक्षरता दर 84.7 फीसदी और महिलाओं में 70.3 फीसदी है। सर्वे में यह भी पाया गया कि हर राज्य में पुरुषों की साक्षरता दर महिलाओं की तुलना में ज्यादा है।
  • सबसे ज्यादा साक्षरता दर वाले टॉप 5 राज्य
  • केरल – 96.2 फीसदी
  • दिल्ली – 88.7 फीसदी
  • उत्तराखंड – 87.6 फीसदी
  • हिमाचल प्रदेश – 86.6 फीसदी
  • असम – 85.9 फीसदी

 

credit: third party image reference

 

भारत में नयी शिक्षा नीति का होना भी इसी साक्षरता को इसकी मंजिल तक पहुचाना है और शिक्षा को लेकर जो सपना देखा गया था उसे साकार करना है.

भारत में नयी शिक्षा नीति 2020 को कैबिनेट की मंज़ूरी 29 जुलाई 2020 को मिल गई है. अब पांचवी कक्षा तक की शिक्षा मातृ भाषा में होगी.इस नीति में शिक्षा पर सकल घरेलू उत्पाद का 6% भाग खर्च किया जायेगा. देश में सबसे पहली शिक्षा नीति इंदिरा गाँधी द्वारा 1968 में शुरू की गयी थी |

मुश्किलें:-

 नयी शिक्षा नीति को समझना और उसे सही तरीके से बच्चों तक लाना एक बहोत बड़ा काम है जिसे अध्यापकों को समझना थोड़े कठिनाइयों का सामना करना हो सकता है |सरकारी अधिकारियो को बार बार इसपे अपनी नज़र रखने की ज़रुरत है और कखाओ को बेहतर बनाने की भी ज़रुरत है |

Comments are closed.